पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

साइबर सुरक्षा: जब उपकरण ही बन जाएं खलनायक

WebdeskOct 14, 2021, 12:20 PM IST

साइबर सुरक्षा: जब उपकरण ही बन जाएं खलनायक
मोबाइल-लैपटॉप को हाईजैक

एक अध्ययन बताता है कि आप अपने मोबाइल फोन, लैपटॉप आदि के साथ जिन दूसरे उपकरणों (पेरिफेरल्स) को कनेक्ट करते हैं, उनका इस्तेमाल आपके डेटा की चोरी और मोबाइल-लैपटॉप को हाईजैक करने के लिए किया जा सकता है


बालेन्दु शर्मा दाधीच

कुछ साल पहले आयकर विभाग के एक रिटायर्ड अधिकारी ने एक इंटरव्यू के दौरान क्लाउड कंप्यूटिंग और मोबाइल सिक्यूरिटी पर कुछ भोली-भाली बातें कही थीं, जैसे यह कि क्लाउड कंप्यूटिंग तभी सफल होती है जब आसमान में अच्छे बादल हों। उन्होंने एक टिप्पणी यह भी की थी कि अमेरिका में जब किसी का मोबाइल फोन खराब हो जाता है तो कुछ लोग अच्छी-खासी कीमत देकर उसे खरीदने के लिए तैयार हो जाते हैं। भले ही आप अपने मोबाइल फोन से सिम, एसडी कार्ड आदि निकाल भी लें, उसे कई बार रिसेट भी कर दें, तब भी ये लोग उसके लिए काफी पैसा देने को तैयार हो जाते हैं। इसके पीछे इन सज्जन ने यह तर्क दिया था कि मोबाइल फोन का डेटा असल में बैटरी में चला जाता है और उसे खरीदने वाले बैटरी से डेटा निकालकर उसका दुरुपयोग कर लेते हैं।


यह बयान मजेदार था और अविश्वसनीय भी। रिटायर्ड अधिकारी की आईटी की समझ वास्तव में बहुत ज्यादा सीमित थी। लेकिन उनकी बैटरी वाली बात अब तीर में तब्दील हो गई है। पश्चिमी देशों में हुए कुछ अध्ययनों ने सतर्क किया है कि आप अपने मोबाइल फोन, लैपटॉप आदि के साथ जिन दूसरे उपकरणों (पेरिफेरल्स) को कनेक्ट करते हैं, उनका इस्तेमाल आपके डेटा की चोरी और मोबाइल-लैपटॉप को हाईजैक करने के लिए किया जा सकता है। इन पेरिफेरल्स में बैटरी तो नहीं, लेकिन लैपटॉप चार्जर, मोबाइल चार्जर, प्रोजेक्टर, कीबोर्ड, माउस, मॉनिटर, ग्राफिक कार्ड, नेटवर्क कार्ड, डॉकिंग स्टेशन या ऐसी ही दूसरी चीजें भी हो सकती हैं। यह एक भयावह कल्पना है।


इंग्लैंड के कैंब्रिज विश्वविद्यालय और अमेरिका के राइस विवि के शोधकर्ताओं की टीम ने पाया है कि इन उपकरणों के जरिए आपके लैपटॉप या डेस्कटॉप को कुछ सेकंड के भीतर हाईजैक किया जा सकता है। जिन उपकरणों पर यह अध्ययन किया गया, उनमें थंडरबोल्ट पोर्ट का इस्तेमाल किया गया था। थंडरबोल्ट, जिसका ताजातरीन संस्करण थंडरबोल्ट 3 है, यूएसबी पोर्ट की ही तरह काम करता है जिसका इस्तेमाल हम अरसे से अपने कंप्यूटरों और दूसरे उपकरणों में करते आए हैं। लेकिन यह यूएसबी 3 की तुलना में बहुत ज्यादा स्पीड से डेटा ट्रांसफर करने में सक्षम है। जहां यूएसबी 3 पोर्ट के जरिए 5 जीबी डेटा प्रति सेकंड की रफ्तार से ट्रांसफर किया जा सकता है, वहीं थंडरबोल्ट 3 में इसकी रफ़्तार 40 जीबी प्रति सेकंड तक है। इतना ही नहीं, आप एक ही थंडरबोल्ट पोर्ट के साथ डॉकिंग पोर्ट जोड़कर बहुत सारे उपकरणों को लैपटॉप से जोड़ सकते हैं, जैसे बाहरी हार्ड डिस्क, प्रोजेक्टर, कीबोर्ड आदि। ये सौ वॉट तक बिजली ट्रांसमिट करने की क्षमता रखते हैं, इसलिए इनका इस्तेमाल चार्जरों में भी किया जाता है। मोबाइल फोन को फास्ट चार्ज करने में इनकी उपयोगिता असंदिग्ध है।

जिन लैपटॉप में थंडरबोल्ड 3 पोर्ट मौजूद था, वे सब के सब हाईजैकिंग के खतरे में पाए गए, फिर भले ही वे मैकिन्टोश कंप्यूटर हों, लिनक्स आधारित लैपटॉप या फिर विंडोज आधारित उपकरण। उन्होंने अपनी जांच के लिए थंडरक्लैप नामक एक प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल किया जिसे यूएसबी केबल के जरिए किसी भी उपकरण के साथ जोड़ा जा सकता है और फिर यह उनमें चल रही अनुचित गतिविधियों की खबर दे सकता है। ऐसा पाया गया कि थंडरबोल्ट पोर्ट के जरिए कनेक्ट किए गए लैपटॉप चार्जर, प्रोजेक्टर आदि उपकरणों को इस तरह से प्रोग्राम किया जा सकता है कि वे अपना काम तो सही ढंग से करते रहें लेकिन साथ ही साथ लैपटॉप या मोबाइल फोन से सूचनाएं चुराने में भी जुट जाएं। इतना ही नहीं, वे आपके उपकरण में वायरस, स्पाईवेयर, रूटकिट्स और रेंसमवेयर जैसे दूसरे मालवेयर को भी घुसा सकते हैं। चूंकि ये उपकरण अपने काम में बखूबी जुटे होते हैं, इसलिए लैपटॉप के यूजर को किसी गलत हरकत का शक नहीं होता।

लेकिन यह अकल्पनीय बात एक हकीकत है। आप पूछेंगे कि क्या ऐसे में कंप्यूटर में मौजूद सिक्यूरिटी सिस्टम सतर्क नहीं हो जाएंगे? असल में ग्राफिक कार्ड, नेटवर्क कार्ड आदि के पास सीधे मेमरी को एक्सेस करने की क्षमता होती है जिसे डायरेक्ट मेमरी एक्सेस (डीएमए) कहा जाता है। मतलब यह कि वे कंप्यूटर की रैम से लेकर हार्ड डिस्क तक को एक्सेस कर सकते हैं। लेकिन इस व्यवस्था के बावजूद आपके उपकरण को निशाना बनाया जा सकता है। तो आप ऐसी हालत में क्या कर सकते हैं? सतर्क रहिए, कंप्यूटर में सुरक्षा इंतजाम चाक-चौबंद रखिए (एंटी-वायरस, एंटी-स्पाइवेयर, फायरवॉल आदि) और जब भी कोई नया उपकरण इस्तेमाल करें तो किसी असामान्य गतिविधि पर नजरें गड़ाए रखिए। यूं आने वाले दिनों में मोबाइल और लैपटॉप निर्माता भी इस समस्या का कुछ हल करेंगे। 

 
 (लेखक सुप्रसिद्ध तकनीक विशेषज्ञ हैं)

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 14 2021 20:44:32

ऐसा जानकारी देने वाला लेख प्रकाशित करने के लिए लेखक को बहुत-बहुत बधाई धन्यवाद शुभकामनाएं

Also read: ऑस्कर में नहीं जाएगी फिल्म 'सरदार उधम सिंह', अंग्रेजों के प्रति घृणा दिखाने की बात आ ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: सूचना लीक मामला: सीबीआई ने नौसेना के अधिकारियों को किया गिरफ्तार, उच्च स्तरीय जांच के ..

भारत का रक्षा निर्यात पांच वर्षों में 334 फीसदी बढ़ा, 75 से अधिक देशों को सैन्य उपकरणों का कर रहा निर्यात
गुरुजी के प्रयासों से ही आज जम्मू-कश्मीर है भारत का अभिन्न अंग

फिर भारत से उलझने को बेताब है चीन, नए ‘लैंड बॉर्डर लॉ’ की आड़ में कब्जाई जमीन पर अधिकार जमाने की तैयारी!

 नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की स्थायी समिति ने बीजिंग में संसद की समापन बैठक के दौरान इस कानून को पारित किया। ताजा जानकारी के अनुसार, अगले साल 1 जनवरी को यह कानून लागू कर दिया जाएगा भारत तथा चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर चीन की शैतानी मंशा में एक और पहलू तब जुड़ गया जब उसने अपनी संसद के परसों खत्म हुए सत्र में सीमावर्ती इलाकों के संबंध में अपनी 'संप्रभुता तथा क्षेत्रीय अखंडता को उल्लंघन से परे' बताते हुए नया लैंड बार्डर लॉ पारित कराया। उल्लेखनीय है कि भारत-चीन के बीच 3,488 कि ...

फिर भारत से उलझने को बेताब है चीन, नए ‘लैंड बॉर्डर लॉ’ की आड़ में कब्जाई जमीन पर अधिकार जमाने की तैयारी!