पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

कर्नाटक में मंदिरों का पैसा गैर—हिंदुओं के लिए नहीं होगा खर्च

WebdeskAug 03, 2021, 11:17 AM IST

कर्नाटक में मंदिरों का पैसा गैर—हिंदुओं के लिए नहीं होगा खर्च


कर्नाटक सरकार ने निर्णय लिया है कि राज्य के मंदिरों से मिलने वाले पैसे का उपयोग किसी और मत या मजहब के लिए नहीं होगा। आशा है कि और राज्य सरकारें भी इस तरह का निर्णय लेंगी।


कर्नाटक सरकार ने हिंदू मंदिरों से जुड़ा एक बहुत ही महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। गत 23 जुलाई को हिंदू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (मुजराई) विभाग के कोष को हिंदू मंदिरों के अतिरिक्त अन्य कार्य में उपयोग करने से रोक दिया गया है। हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स विभाग द्वारा दिए गए आदेश में कहा गया है कि हिंदू मंदिरों से प्राप्त किए गए पैसे या मंदिरों की संपत्ति का उपयोग किसी भी तरह के गैर-हिंदू कार्य अथवा गैर-हिंदू संगठन के लिए नहीं किया जाएगा।

बता दें कि विश्व हिंदू परिषद सहित कुछ अन्य हिंदुत्वनिष्ठ संगठनों को 24 मई, 2021 को पता चला था कि मंदिरों की आय का पैसा मस्जिदों के इमामों, मदरसों के मौलवियों और चर्च के लोगों को वेतन के रूप में दिया जाता था। हर इमाम, मौलवी या चर्च के पादरी को प्रतिमाह 48,000 रु. वेतन के रूप में कर्नाटक सरकार देती थी। यह व्यवस्था कर्नाटक   में उस समय से ही थी, जब राज्य में केवल कांग्रेस की सरकारें हुआ करती थीं। कांग्रेस ने वोट बैंक के लिए हिंदू मंदिरों से मिलने वाले पैसे का दुरुपयोग किया और उसे गैर—हिंदुओं के बीच बांटने की परम्परा शुरू की थी।

इसलिए विहिप की कर्नाटक इकाई और कुछ अन्य संगठनों ने मांग की थी कि हिंदू मंदिरों का पैसा केवल और केवल हिंदू मंदिरों में ही खर्च हो। इसके लिए विहिप ने कुछ समय पहले रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स विभाग के मंत्री कोटा श्रीनिवास पुजारी को एक ज्ञापन सौंपा था। इसमें कहा गया था, “हिंदू मंदिरों के पैसे का उपयोग केवल मंदिरों और हिंदू समाज के कल्याण के लिए किया जाना चाहिए।” इसके बाद सरकार ने उपरोक्त निर्णय लिया है।

एक रिपोर्ट के अनुसार इस समय कर्नाटक सरकार के अधीन 34,526 मंदिर हैं। इन मंदिरों को आय के आधार पर ए, बी और सी तीन श्रेणी में बांटा गया है। ए और ब श्रेणी वाले मंदिरों की आय अच्छी है, लेकिन सी श्रेणी वाले लगभग 6,000 मंदिरों की आय सालाना लगभग 10,000 रु है। इतनी कम आमदनी होने के कारण उन मंदिरों में प्रात: — सायं एक दीया भी नहीं जल पाता है। इसलिए हिंदुत्वनिष्ठ संगठनों की मांग है कि सरकार बड़े मंदिरों से मिले पैसे का उपयोग छोटे मंदिरों के लिए करे।
उम्मीद है कि कर्नाटक सरकार हिंदू संगठनों की बात मानेगी।  

Follow Us on Telegram

Comments
user profile image
Anonymous
on Aug 07 2021 20:37:00

हिन्दुओं के मंदिर सरकार उन्हें सौंप दें

Also read: श्री विजयादशमी उत्सव: भयमुक्त भेदरहित भारत ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: दुर्गा पूजा पंडालों पर कट्टर मुस्लिमों का हमला, पंडालों को लगाई आग, तोड़ीं दुर्गा प्र ..

कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्‍या, शव किसान आंदोलन मंच के सामने लटकाया
सहारनपुर में हो रहा मदरसे का विरोध, जानिए आखिर क्या है कारण

विजयादशमी पर विशेष : दुष्प्रवृत्तियों से जूझने का लें सत्संकल्प

  विजयादशमी के महानायक श्रीराम भारतीय जनमानस की आस्था और जीवन मूल्यों के अन्यतम प्रतीक हैं। भारतीय मनीषा उन्हें संस्कृति पुरुष के रूप में पूजती है। उनका आदर्श चरित्र युगों-युगों से भारतीय जनमानस को सत्पथ पर चलने की प्रेरणा देता आ रहा है। शौर्य के इस महापर्व में विजय के साथ संयोजित दशम संख्या में सांकेतिक रहस्य संजोये हुए हैं। हिंदू तत्वदर्शन के मनीषियों की मान्यता है कि जो व्यक्ति अपनी आत्मशक्ति के प्रभाव से अपनी दसों इंद्रियों पर अपना नियंत्रण रखने में सक्षम होता है, विजयश्री उसका वरण अवश ...

विजयादशमी पर विशेष : दुष्प्रवृत्तियों से जूझने का लें सत्संकल्प