पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

मत अभिमत

पादरियों को चाहिए वेटिकन का सुरक्षा घेरा!

WebdeskAug 11, 2021, 03:29 PM IST

पादरियों को चाहिए वेटिकन का सुरक्षा घेरा!

आर. एल. फ्रांसिस
 


भारत के आंतरिक मामलों में वेटिकन का हस्तक्षेप बढ़ा है। भारत के कैथोलिक चर्च का पूरा संचालन वेटिकन और कैनन लॉ के दिशानिर्देशों के तहत हो रहा है। तमिलनाडु में मर्सी का बयान एक खतरनाक चलन की ओर संकेत


भारत में सेकुलर जमात के लोग किसी चीज में सच और झूठ की ज्यादा परवाह नहीं करते। तमिलनाडु में मर्सी सेंथिल कुमार की पादरियों को वेटिकन के सुरक्षा घेरे में लाने की मांग यही दर्शाती है कि चर्च से समर्थन पाने का लालच कितना प्रबल है। इसमें संदेह नहीं कि पिछले कुछ दशकों में भारत के आंतरिक मामलों में वेटिकन का हस्तक्षेप बढ़ा है, भारत के कैथोलिक चर्च का पूरा संचालन वेटिकन और कैनन लॉ के दिशानिर्देशों के तहत हो रहा है। वर्तमान में पोप ही भारत में बिशपों को नियुक्त करते हैं।


स्टेन स्वामी की न्यायिक हिरासत में हुई मौत को लेकर चर्च एक बड़ी रणनीति पर काम कर रहा है। स्वामी को ‘वनवासियों, दलितों और वंचितों का मसीहा’ घोषित किया जा रहा है, कहीं ‘शहीद’ तो कहीं वेटिकन से ‘संत’ घोषित कराने की कोशिश की जा रही है। हैरानी की बात है कि अब तो उसके लिए नोबेल पुरस्कार की भी मांग की जा रही है।


स्टेन स्वामी की असलियत
स्टेन स्वामी पर लगे आरोपों को देखें। भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में गिरफ्तार जेसुइट पादरी स्टेन की जमानत याचिका को एनआईए की विशेष अदालत ने खारिज कर दिया था। न्यायालय ने कहा था कि स्टेन स्वामी ने प्रतिबंधित संगठन सीपीआई (माओवादी) के साथ मिलकर देश में अशांति पैदा करने एवं सरकार को गिराने की साजिश रची थी। जांच एजेंसी ने दस्तावेजों का विश्लेषण किया और इस निष्कर्ष पर पहुंची कि फादर स्टेन और उनका एनजीओ ‘बगैचा’ माओवादियों के हितों में सहयोग करता था, क्योंकि उनका एनजीओ विस्थापन विरोधी जन विकास आंदोलन (वीवीजेवीए) के साथ संबंध रखता है, जो प्रतिबंधित सीपीआई (माओवादी) का एक प्रकट संगठन है।

चर्च फादर स्टेन स्वामी पर लगे किसी भी आरोप का जवाब देने की जगह आक्रामक होने की नीति अपना रहा है। एक दशक पहले कंधमाल हिंसा पर भी उसका यही रवैया था। उस समय इटली सरकार का भारतीय राजदूत को धमकाना और भारत में पोप के राजदूत का कंधमाल हिंसा की जांच के लिए जाना भारतीय चर्च की आज जैसी आकमक रणनीति ही तो था।


चर्च के इशारे पर भारत विरोधी बयान
चर्च की ऐसी आक्रामक रणनीति को खाद-पानी अपने को सेकुलर कहने वाले राजनीतिक दलों से मिलता है। ताजा मामला तमिलनाडु का है। सत्तारूढ़ द्रमुक सरकार में सहकारिता मंत्री परियासामी की पुत्रवधू मर्सी सेंथिल कुमार ने ऐसे कानून की जरूरत बताई है, जिसमें वेटिकन की मंजूरी के बाद ही किसी पादरी या नन को गिरफ्तार करने की इजाजत हो। मर्सी ने कहा कि ‘‘पादरी सब की सेवा करते हैं।’ हाल ही में तमिलनाडु में ही रोमन कैथोलिक पादरी जॉर्ज पोन्नैया को प्रधान मंत्री, गृह मंत्री, हिंदू धर्म और मातृभूमि के बारे में कथित रूप से अपमानजनक और अभद्र टिप्पणी करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। हालांकि द्रविड़ मुनेत्र कड़गम के नेतृत्व वाली तमिलनाडु सरकार का चर्च के प्रति नरम रुख जगजाहिर है। राज्य सरकार ने विवादास्पद फादर ए. राज मारियासुसाई को तमिलनाडु लोक सेवा आयोग का सदस्य नियुक्त करने का आदेश जारी किया है। फादर मारियासुसाई का अतीत बेहद विवादास्पद रहा है। उनके
कथित तौर पर शहरी नक्सलियों के साथ घनिष्ठ संबंध हैं।
 वरिष्ठ नौकरशाहों ने फादर मारियासुसाई की नियुक्ति पर आपत्ति जताई है।
 

   (लेखक पुअर क्रिश्चियन लिबरेशन मूवमेंट के अध्यक्ष हैं)

Follow Us on Telegram

Comments

Also read:बंद करो जाति तोड़ो, देश तोड़ो मुहिम ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:हम धर्म को त्याग देंगे तो जीवन हमें त्याग देगा ..

तकनीक जो ‘चख’ सकती है
एक साधारण स्त्री को बच कर रहना चाहिए...

ई-कॉमर्स कंपनियों का भ्रष्टाचार से पुराना नाता

प्रो. अश्विनी महाजन अमेजन के हाल के वित्तीय दस्तावेजों से पता चला है कि इसकी छह कंपनियों ने पिछले दो वित्त वर्ष में 8,456 करोड़ रुपये कानूनी एवं व्यावसायिक फीस के नाते खर्च किए हैं। कानूनी फीस के रूप में दी गई इतनी बड़ी राशि संदेह पैदा करती है। तो क्या यह पैसा वकीलों के माध्यम से भारतीय नियमों की धज्जियां उड़ाने के लिए रिश्वत देने के काम आया   अमेजन के हाल ही में सरकार को दिए गए वित्तीय दस्तावेजों से यह पता चल रहा है कि उसकी 6 कंपनियों ने पिछले दो वित्त वर्ष 2018-19 और 2019-20 के दौ ...

ई-कॉमर्स कंपनियों का भ्रष्टाचार से पुराना नाता