पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत बने मकानों को चर्च में किया जा रहा है तब्दील

WebdeskJul 15, 2021, 01:07 PM IST

प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत बने मकानों को चर्च में किया जा रहा है तब्दील

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने मकान


अरुण कुमार सिंह
झारखंड के खूंटी जिले में तोरपा प्रखंड के रायसमेला गांव की पाहन टोली और पड़ारिया गांव में प्रधानमंत्री योजना के अंतर्गत बने घरों मेें से अनेक को चर्च में बदल दिया गया है। गरीबों के लिए बने इन घरों पर चर्च के लोग कब्जा कर रहे हैं और जो वास्तव में उनके अधिकारी हैं, वे फिर से झोपड़ी में रहने लगे हैं।

अभी भी देश के करोड़ों लोग कच्चे मकान यानी फूस के घरों में रहते हैं। उनके पास इतने पैसे नहीं हैं कि वे अपने लिए एक मकान बना सकें। इस स्थिति को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरे देश में गरीबों के लिए मकान बनवा रहे हैं। अब तक बिहार, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, उत्तर प्रदेश, झारखंड आदि राज्यों के करोड़ों लोगों को मकान मिल भी गए हैं। अब इन मकानों पर कन्वर्जन करने वालों की नजर गड़ गई है। इसके दो उदाहरण झारखंड के खूंटी जिले के तोरपा प्रखंड में मिले हैं। इस प्रखंड के रायसमेला गांव की पाहन टोली और पड़ारिया  गांव में दो चर्च संचालित हो रहे हैं। ये दोनों चर्च प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत बने मकानों में चल रहे हैं। पाहन टोली वाले चर्च का संबंध विश्ववानी चर्च से है और पंडरिया वाले चर्च का संबंध हेब्रोन चर्च से है। पाहन टोली में जिस घर से चर्च संचालित हो रहा है, वह बुधराम मुंडा का है।

पता चला है कि कुछ समय पहले ही बुधराम ईसाई बना है। वह मजदूरी करके अपने परिवार का पालन—पोषण करता है। कुछ लोगों ने बताया कि कोरोना काल के दौरान ही उसने मोटरसाइकिल खरीदी है। लोग सवाल उठा रहे हैं जिस व्यक्ति का घर मजदूरी किए बिना चल नहीं सकता है, उसके पास मोटरसाइकिल खरीदने का पैसा कहां से आया! इसका जवाब रांची की सामाजिक कार्यकर्ता और चर्च के विरुद्ध आंदोलन चलाने वालीं प्रिया मुंडा इन शब्दों में देती हैं, ''चर्च के लोग लोभ—लालच से भोले—भाले जनजातियों को ईसाई बना कर हमारी सदियों पुरानी संस्कृति को खत्म कर रहे हैं। चूंकि गरीबी इतनी है कि लोग थोड़े से पैसे के लिए बिक जाते हैं और अपने पूर्वजों की आस्था और मान्यताओं को छोड़कर ईसाई बन जाते हैं। यह बहुत ही गंभीर मामला बनता जा रहा है। इस पर रोक लगाने के लिए पूरे समाज को एकजुट होकर काम करना होगा, अन्यथा जनजाति समाज पूरी तरह भारतीयता से कट जाएगा।''
उन्होंने यह भी कहा कि लोभ में आकर ही लोग प्रधानमंत्री आवास योजना से बने मकानों को चर्च के हवाले कर रहे हैं और वे पहले की तरह ही कहीं झोपड़ी में रह रहे हैं। उन्होंने प्रशासन से मांग की है कि ऐसे घरों की जांच अच्छी तरह की जाए और जो लोग इसके दोषी हैं, उन्हें दंड दिया जाए।

उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले प्रिया मुंडा के नेतृत्व में रायसेमला के ग्रामीणों ने पाहन टोली
में बने अवैध चर्च के विरुद्ध आवाज उठाई थी। इसके बाद वहां रह रहा पादरी भाग गया था और छल से जिस जमीन पर चर्च बना था, उसके मालिक ने चर्च पर ताला लगा दिया था। इसके बाद गांव में चर्च की गतिविधि रुक गई थी। लेकिन चर्च के लोगों ने गांव में जो लोग ईसाई बन चुके हैं, उनके सहयोग से एक बार फिर से अपनी गतिविधियां शुरू कर दी हैं। इसी क्रम में वे लोग प्रधानमंत्री आवास योजना वाले घरों पर कब्जा कर रहे हैं। जब फिर से प्रिया मुंडा ने इन हरकतों का विरोध किया तो कुछ ईसाइयों ने उनकी शिकायत पुलिस से की। इस कारण प्रिया को गत दिनों दिनों पुलिस ने बुलाया और थाने में कई घंटों तक रोक कर रखा।

इसके बावजूद बहुत सारे लोग चर्च के विरोध में आवाज उठा रहे हैं। इसे और गति देने के लिए पिछले दिनों 'उलगुलान आदिवासी सनातन परिषद' का गठन किया गया है। सामाजिक कार्यकर्ता गंगा बेदिया के नेतृत्व में बने इस संस्था ने कन्वर्जन को रोकने और वनवासी संस्कृति को बचाने का संकन्प लिया है। गंगा बेदिया कहते हैं कि जनजाति समाज सनातन समाज का ही अभिन्न अंग है। इसलिए जो लोग इस समाज से दूर चले गए हैं, उन्हें वापस लाया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा है कि बाबा साहेब के विचारों को गांव—गांव तक ले जाने से कन्वर्जन बहुत हद तक रुक सकता है।

Follow Us on Telegram

Comments
user profile image
Anonymous
on Jul 15 2021 13:37:57

चेतनायुक्त धन्यवाद

Also read: कुपवाड़ा में आतंकी साजिश नाकाम, हथियारों का जखीरा बरामद ..

Afghanistan में तालिबान के आतंक के बीच यहां गूंज रहा हरे राम का जयकारा | Panchjanya Hindi

अफगानिस्तान का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नवरात्रि के दौरान काबुल के एक मंदिर में हिंदू समुदाय लोग ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ का भजन गाते नजर आ रहे हैं।
#Panchjanya #Afghanistan #HareRaam

Also read: कोविड से मृत्यु होने वाले आश्रितों को धामी सरकार देगी 50 हजार ..

सीमांत क्षेत्र में बीआरओ प्रोजेक्ट की जिम्मेदारी महिला अधिकारी को
मुरादाबाद में तीन तलाक के दो मामले दर्ज

बरेली के स्मैक माफियाओं पर लगा सफेमा, 65 करोड़ की संपत्ति जब्त

बरेली जिले के दो स्मैक तस्करों पर पुलिस प्रशासन ने "सफेमा" कानून के तहत कार्रवाई की है। जिला प्रशासन ने आयकर विभाग की मदद से 65 करोड़ की संपत्ति को जब्त किया है। पश्चिम यूपी डेस्क बरेली जिले के दो स्मैक तस्करों पर पुलिस प्रशासन ने "सफेमा" कानून के तहत कार्रवाई की है। जिला प्रशासन ने आयकर विभाग की मदद से 65 करोड़ की संपत्ति को जब्त किया है। बरेली में मीरगंज, फतेहगंज के स्मैक के अड्डों को ध्वस्त करने के उद्देश्य से जिला प्रशासन ने चिट्टा या सफेदा का धंधा करने वाले दो बड़े ग ...

बरेली के स्मैक माफियाओं पर लगा सफेमा, 65 करोड़ की संपत्ति जब्त