पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

ताबीज के विवाद को सांप्रदायिक रंग देने वाला उम्मेद पहलवान है सपा का नेता, यति नरसिंहानन्द के लिए कर चुका है फांसी की मांग

WebdeskJun 18, 2021, 11:51 AM IST

ताबीज के विवाद को सांप्रदायिक रंग देने वाला उम्मेद पहलवान है सपा का नेता, यति नरसिंहानन्द के लिए कर चुका है फांसी की मांग

सुनील राय


समाजवादी पार्टी के नेता उम्मेद पहलवान ने मौलवी अब्दुल समद के साथ मिलकर फर्जी कहानी गढ़ा कि बलपूर्वक ‘जय श्री राम’ का उद्घोष कराया गया. उम्मेद ने मौलवी अब्दुल समद को अपने फेसबुक पेज पर लाइव कराया. उम्मेद के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की गई है. फरार उम्मेद पहलवान, यति नरसिंहानन्द के विरुद्ध भी विष वमन कर चुका है.

    गाज़ियाबाद जनपद के लोनी में हुई मारपीट की घटना को उम्मेद पहलवान ने साम्प्रदायिक रंग देने का पूरा प्रयास किया था. मौलवी अब्दुल समद ताबीज आदि देकर लोगों का इलाज करता है. उसकी दी हुई ताबीज से लोगों का जीवन खतरे में पड़ गया. वे लोग उसको सबक सिखाना चाहते थे. मौलवी के साथ उन लोगों ने मारपीट की थी. उसके बाद समाजवादी पार्टी के नेता उम्मेद पहलवान ने फेसबुक लाइव किया. आरोप है कि उम्मेद पहलवान ने ही विष वमन कराया जिसके बाद यह वीडियो वायरल होने लगा. उसके बाद अफवाहबाजों ने इस वीडियो को फैलाना शुरू कर दिया.

     
    एफआईआर दर्ज होने के बाद उम्मेद पहलवान अपने फेसबुक पेज के माध्यम से मजहबी लोगों की हमदर्दी हासिल करने की कोशिश कर रहा है. उसने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है कि “दोस्तों आखिर मुझ पर फर्जी मुकदमा कर ही दिया. क्या 72 साल के बुजुर्ग अब्दुल समद की मदद करना मेरा जुर्म है. यदि शहीद नगर के कुछ जिम्मेदारों ने 72 साल के बुजुर्ग अब्दुल समद को मेरे पास भेजा और मैंने थाने में तहरीर दी एफआईआर दर्ज  कराने के लिए तो पुलिस ने मुझ पर झूठा मुकदमा क्यों कर दिया. किसी अनजान व्यक्ति की या जिस पर जुल्म हो उसकी मदद करना पाप है. कोई कितने जुल्म कर ले मैं हर मजलूम की मदद करता रहूंगा इंशा अल्लाह!”

 

    उल्लेखनीय है कि गत 9 अप्रैल को उम्मेद पहलवान ने यति नरसिंहानन्द को फांसी देने की मांग की थी. अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट किया था कि “हमारे हुजूर की शान में गुस्ताखी करने वाले के खिलाफ पुलिस-प्रशासन को ज्ञापन दिया. हम शासन-प्रशासन से मांग करते हैं कि यति नरसिंहानंद सरस्वती को  जेल के अंदर ही फांसी देनी चाहिए.”

Comments

Also read: प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कांग्रेस विधायक का बेटा गिरफ्तार, 6 माह से बलात्‍कार मामले में फरार था ..

केरल में नॉन-हलाल रेस्तरां चलाने वाली महिला को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बेरहमी से पीटा
रवि करता था मुस्लिम लड़की से प्यार, मामा और भाई ने उतारा मौत के घाट

कथित किसानों का गुंडाराज

  कथित किसान आंदोलन स्थल सिंघु बॉर्डर पर जिस नृशंसता के साथ लखबीर सिंह की हत्या की गई, उससे कई सवाल उपजते हैं। यह घटना पुलिस तंत्र की विफलता पर सवाल तो उठाती ही है, लोकतंत्र की मूल भावना पर भी चोट करती है कि क्या फैसले इस तरीके से होंगे? किसान मोर्चा भले इससे अपना पल्ला झाड़ रहा हो परंतु वह अपनी जवाबदेही से नहीं बच सकता। मृतक लखबीर अनुसूचित जाति से था परंतु  विपक्ष की चुप्पी कई सवाल खड़े करती है रवि पाराशर शहीद ऊधम सिंह पर बनी फिल्म को लेकर देश में उनके अप्रतिम शौर्य के जज्बे ...

कथित किसानों का गुंडाराज