पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

दिल्ली विश्वविद्यालय में शुरू हुई दाखिले की दौड़, स्नातक में हैं 65 हजार सीटें

WebdeskAug 03, 2021, 01:19 PM IST

दिल्ली विश्वविद्यालय में शुरू हुई दाखिले की दौड़, स्नातक में हैं 65 हजार सीटें


दिल्ली विश्वविद्यालय के विभिन्न कालेजों में दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो गई है। विवि ने कोविड के चलते आ रही चुनौतियों को देखते हुए दाखिले के लिए प्रक्रिया को पिछले वर्ष की तरह बनाए रखने का निर्णय लिया है, इसके चलते इस बार भी दाखिला मेरिट के आधार पर ही होगा



दिल्ली विश्वविद्यालय के विभिन्न कालेजों में दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस बार बड़ी संख्या में छात्रों ने 95 से अधिक अंक अर्जित किए हैं। ऐसे में कॉलेजों में दाखिले बढ़ाए जा सकते हैं। इसके अलावा इस बार मेरिट लिस्ट भी पहले के मुकाबले और ज्यादा जा सकती है


स्नातक के लिए 31 अगस्त तक आवेदन
विवि में स्नातक कोर्सेज के लिए 31 अगस्त तक आवेदन फार्म भरा जा सकता है। दिल्ली विश्वविद्यालय द्वारा शुरू की गई यह दाखिला प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन है। दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति पीसी जोशी ने कहा कि यह सच है कि इस बार सीबीएसई के रिजल्ट में बड़ी संख्या में छात्रों को अच्छे अंक प्राप्त हुए हैं। हम सीबीएसई व अन्य बोर्ड द्वारा जारी किए गए रिजल्ट का पूरा सम्मान करते हैं। आवश्यकता पड़ने पर कॉलेजों में सीटें बढ़ाई जा सकती हैं। कुलपति ने कहा कॉलेजों द्वारा जारी की गई कटऑफ में यदि अधिक छात्र दाखिले के लिए योग्य पाए जाते हैं तो दाखिला देना होगा। ऐसी स्थिति में कॉलेजों की सीटें बढ़ाई जा सकती हैं। बता दें कि दिल्ली विश्वविद्यालय के कई कॉलेजों में पहले से ही काफी हाई मेरिट जाती रही है। इन कॉलेजों में हिंदू कॉलेज, हंसराज कॉलेज, रामजस कॉलेज, दौलतराम कॉलेजों, एसआरसीसी और सेंट स्टीफन सरीखे कॉलेज शामिल हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति ने कहा कि हो सकता है कि इस बार मेरिट लिस्ट पहले के मुकाबले और अधिक ऊपर जाए। दिल्ली विश्वविद्यालय ने पिछले वर्ष कोविड महामारी के कारण सामने आई चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए, इस वर्ष भी विश्वविद्यालय ने पात्रता मानदंड को पिछले वर्ष की तरह बनाए रखने का निर्णय लिया है, इसके चलते इस बार भी दाखिला मेरिट के आधार पर ही होगा।

पंजीकरण शुल्क में नहीं होगा बदलाव
दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति पीसी जोशी के मुताबिक विश्वविद्यालय ने यह भी निर्णय लिया है कि मेरिट आधारित और प्रवेश आधारित प्रवेश के लिए पंजीकरण शुल्क में कोई बदलाव नहीं होगा। केंद्रीकृत यूजी प्रवेश एक पंजीकरण-सह-आवेदन पत्र के माध्यम से किया जाएगा। सभी विभाग, कॉलेज प्रवेश के लिए एक ही पंजीकरण-सह-आवेदन प्रपत्र का उपयोग करेंगे और उम्मीदवारों को कोई अन्य प्रपत्र नहीं भरना होगा। स्नातकोत्तर कार्यक्रमों के लिए, उम्मीदवारों को एक पंजीकरण फॉर्म भरना होगा, लेकिन एक से अधिक कार्यक्रमों का विकल्प चुनने पर अलग पंजीकरण शुल्क का भुगतान करना होगा।

Follow Us on Telegram

 
 

Comments

Also read: प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे की तैयारी, 400 करोड़ की योजनाओं का होगा लोकार्पण ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कांग्रेस विधायक का बेटा गिरफ्तार, 6 माह से बलात्‍कार मामले में फरार था ..

केरल में नॉन-हलाल रेस्तरां चलाने वाली महिला को इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बेरहमी से पीटा
रवि करता था मुस्लिम लड़की से प्यार, मामा और भाई ने उतारा मौत के घाट

कथित किसानों का गुंडाराज

  कथित किसान आंदोलन स्थल सिंघु बॉर्डर पर जिस नृशंसता के साथ लखबीर सिंह की हत्या की गई, उससे कई सवाल उपजते हैं। यह घटना पुलिस तंत्र की विफलता पर सवाल तो उठाती ही है, लोकतंत्र की मूल भावना पर भी चोट करती है कि क्या फैसले इस तरीके से होंगे? किसान मोर्चा भले इससे अपना पल्ला झाड़ रहा हो परंतु वह अपनी जवाबदेही से नहीं बच सकता। मृतक लखबीर अनुसूचित जाति से था परंतु  विपक्ष की चुप्पी कई सवाल खड़े करती है रवि पाराशर शहीद ऊधम सिंह पर बनी फिल्म को लेकर देश में उनके अप्रतिम शौर्य के जज्बे ...

कथित किसानों का गुंडाराज