पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

अपने घरों की ओर लौट रहे हिंसा प्रभावित लोगों को डरा रहे टीएमसी के गुंडे, मंगवा रहे माफी और दे रहे आर्थिक दंड

WebdeskJun 15, 2021, 01:32 PM IST

अपने घरों की ओर लौट रहे हिंसा प्रभावित लोगों को डरा रहे टीएमसी के गुंडे, मंगवा रहे माफी और दे रहे आर्थिक दंड

डॉ. अंबा शंकर बाजपेयी
                                    
पूरे राज्य में तृणमूल कांग्रेस के गुंडों का भय व्याप्त है। जो भाजपा कार्यकर्ता हिंसा के बाद अपने घरों से पलायन कर गए थे, अब जब वे वापस अपने घरों की ओर लौट रहे हैं तो टीएमसी के गुंडे उनसे माफ़ी मांगवा रहे हैं। साथ ही उन्हें तृणमूल कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता भी दिलाई जा रही है
 

    पश्चिम बंगाल में चुनाव एवं मतगणना के बाद से हो रही राजनीतिक हिंसा व हत्याओं के चलते आम लोगों में इतना भय व्याप्त हो गया कि लाखों लोग अपने घरों से पलायन कर गए। जानमाल की सुरक्षा को लेकर डरे सहमें ये लोग या तो सीमांत राज्यों में शरण लिए हुए हैं या अपने रिश्तेदारों के यहां। भय का ऐसा वातावरण है कि एक माह बाद जब लोगों ने अपने घरों में आना शुरू किया तो भाजपा के स्थानीय नेता व समर्थकों को ऑटो रिक्शा में लाउडस्पीकर लगाकर क्षेत्र ने ऐलान करना पड़ा कि उनसे गलती हो गई कि उन्होंने भाजपा का समर्थन किया। पूरे राज्य में तृणमूल कांग्रेस के गुंडों, शासन व पुलिस प्रशासन का इतना ज्यादा भय है कि हजारों—हजार भारतीय जनता पार्टी के वे कार्यकर्ता, जो चुनावी हिंसा में बेघर हुए थे, अब टीएमसी के गुंडों से माफ़ी मांग रहे हैं। उनके सामने कान पकड़ कर उठक-बैठक कर रहे हैं और तो और आर्थिक दंड भी भर रहे। इनसे माफ़ी तो मांगवाई ही जा रही है साथ ही उन्हें तृणमूल कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता भी दिलाई जा रही है। इतनी प्रकिया पूरी होने के बाद ही टीएमसी के स्थानीय गुंडों द्वारा भाजपा के समर्थकों व कार्यकर्ताओं को उनके आवासों/घरों में प्रवेश करने की अनुमति दी जा रही है। ऐसी घटनाएं तो वैसे पूरे राज्य में हो रही हैं, लेकिन पूर्व मेदिनीपुर, बांकुड़ा, बर्धमान, बीरभूम व दक्षिण 24 परगना सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्र हैं।

    राज्य में व्याप्त अराजकता और भय का अंदाजा इस बात से भी लगा सकते हैं कि पूर्व में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय ने अपने बेटे शुभ्रासो रॉय के साथ तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया। इस दौरान उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा की राज्य में ऐसी स्थिति है कि भाजपा में कोई नहीं रहेगा। उनका यह इशारा इंगित करता है कि राज्य में शासन—प्रशासन किस कदर भाजपा कार्यकर्ताओं का मान—मर्दन करने पर तुला हुआ है।

    कानून व्यवस्था की लचर हालत

    राज्य में कानून-व्यवस्था व गणतंत्र जैसी कोई बात नहीं है। राज्य के राज्यपाल ने इस बात का जिक्र कई बार ट्वीट और मीडिया के माध्यम से किया है। उन्होंने कहा कि बंगाल में गणतंत्र सांस नहीं ले पा रहा है।

Comments

Also read: पाक जीत का जश्न मनाने वालों पर हुई FIR तो आतंकी संगठन ने दी धमकी, माफी मांगें नहीं तो ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: 'मैच में रिजवान की नमाज सबसे अच्छी चीज' बोलने वाले वकार को वेंकटेश का करारा जवाब-'... ..

जम्मू-कश्मीर में आतंकी फंडिंग मामले में जमात-ए-इस्लामी के कई ठिकानों पर NIA का छापा
प्रधानमंत्री केदारनाथ में तो बीजेपी कार्यकर्ता शहरों और गांवों में एकसाथ करेंगे जलाभिषेक

गहलोत की पुलिस का हिन्दू विरोधी फरमान, पुलिस थानों में अब नहीं विराजेंगे भगवान

राजस्थान पुलिस द्वारा थानों में पूजा स्थल का निर्माण निषिद्ध करने के आदेश पर सियासत तेज हो गयी है. भाजपा ने इसे कांग्रेस का हिन्दू विरोधी फरमान बताते हुए तुरंत वापस लेने की मांग की      राजस्थान पुलिस ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें थानों में पूजा स्थल का निर्माण नहीं कराने को लेकर कहा गया है। आदेश में जिला पुलिस अधीक्षकों को पुलिस कार्यालय परिसरों/ पुलिस थानों में पूजा स्थल का निर्माण नहीं कराने संबंधी कानून का कड़ाई से पालन करने का निर्देश दिया गया है।   रा ...

गहलोत की पुलिस का हिन्दू विरोधी फरमान, पुलिस थानों में अब नहीं विराजेंगे भगवान