पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

भारत

हॉकी खिलाड़ी वंदना कटारिया के परिवार को जातिसूचक शब्द कहे जाने पर दो आरोपियों को भेजा गया जेल

WebdeskAug 06, 2021, 12:09 PM IST

हॉकी खिलाड़ी वंदना कटारिया के परिवार को जातिसूचक शब्द कहे जाने पर दो आरोपियों को भेजा गया जेल

दिनेश मानसेरा


अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी वंदना कटारिया के परिवार को जातिसूचक शब्द कहे जाने के मामले में दो आरोपियों को जेल भेज दिया है। हालांकि इस मामले में पुलिस की शुरुआती जांच में ये बात सामने आई है कि ये मामला पड़ोस के पुराने झगड़े का है।


 अंतरराष्ट्रीयहॉकी खिलाड़ी वंदना कटारिया के परिवार को जातिसूचक शब्द कहे जाने के मामले में दो आरोपियों को जेल भेज दिया है। हालांकि इस मामले में पुलिस की शुरुआती जांच में ये बात सामने आई है कि ये मामला पड़ोस के पुराने झगड़े का है।

हरिद्वार के सिडकुल थाना क्षेत्र में हॉकी खिलाड़ी वंदना के भाई चन्द्रशेखर कटारिया ने एक तहरीर में आरोप लगाया था कि भारतीय महिला हॉकी टीम के टोक्यो ओलम्पिक में हार के बाद पड़ोस के रहने वाले कुछ लोगों ने पटाखे छोड़े और उनके परिवार के लिए जातिसूचक शब्द कहे। इस मामले में पुलिस ने विजय पाल और अंकुर दोनों भाइयों को धारा 504/ धारा 3(1) में जेल भेज दिया, जबकि तीसरे सुमित चौहान को भी खोजा जा रहा है।

इस मामले में जब जांच पड़ताल की गई तो कुछ रोचक जानकारी सामने आई। हुआ यूं कि जब महिला हॉकी का सेमीफाइनल चल रहा था तो वंदना के घर के बाहर मीडिया का जमावड़ा लगा हुआ था। मीडिया को लगा था कि यदि भारत मैच जीतेगा तो यहां जश्न होगा। पर सेमीफाइनल का परिणाम भारत के पक्ष में नही हुआ। लेकिन हॉकी प्रशंसकों में उत्साह चरम पर था। अब जो पटाखे साथ लेकर आये थे वे उन्हें जलाने लगे। जिसका शोर सुन कर वंदना के परिवारजन घर से बाहर निकल आये। इसी बीच पड़ोस में रहने वाले अंकुर पाल और विजय पाल भी घर से बाहर आ गये। विजय और अंकुर दोनों हॉकी के खिलाड़ी भी हैं। उन्होंने पटाखे दगा रहे लोगों से हार पर ऐसा नहीं करने को कहा। जिस पर कटारिया परिवार और विजय पाल परिवार में झड़प हो गयी। इसी दौरान पटाखा दगा रहे सुमित चौहान भी इस मामले में दोनों पक्षों को शांत करवाने में जुटे तो वो भी निशाने पर आ गये।
 
दरअसल, विजय और अंकुर परिवार और कटारिया परिवार की आपस में कई सालों से नहीं बनती। मोहल्ले के झगड़े के कई गवाह मौजूद हैं। विजय पाल परिवार और कटारिया परिवार में आपसी रंजिश है। इस बात को वंदना के भाई चन्द्रशेखर अपने बयान में भी स्वीकार कर चुके हैं। वंदना के और भी भाई हैं और इन सभी ने स्वीकार किया कि दोनों परिवारों में ईर्ष्या का भाव रहता आया है। चूंकि इस बार वंदना ओलम्पिक खेल रही थीं, लिहाजा कटारिया परिवार का रुतबा भी मीडिया प्रशासन में ज्यादा हो गया।

मोहल्ले का झगड़ा, पटाखों की वजह से मीडिया में सुर्खियां इसलिए भी बटोर गया क्योंकि भारतीय महिला हॉकी की हार के बाद वहां मौजूद मीडिया के लिए कुछ भी खबर बनाने को था नहीं। लिहाजा पड़ोस के झगड़े की खबर राष्ट्रीय मीडिया में दलित और जाति अपमान में सुर्खियां बन गयी।
 मुख्य धारा की मीडिया के एक वर्ग ने इस पर विशेष कार्यक्रम तक आयोजित किए। इन मीडिया हाउस ने पिछले कुछ समय से खिलाड़ियों के जाति पर विशेष तवज्जो देकर माहौल को राष्ट्रवाद से न जोड़ कर जाति—धर्म से जोड़ा। इस अभियान में कुछ यूट्यूबर पत्रकार और कुछ न्यूज़ पोर्टल भी पीछे नहीं रहे। इन सभी ने मिलकर वंदना कटारिया को एक मुद्दा बना कर सुर्खियां बटोरने का काम किया।

गौरतलब है कि इस मामले में उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने बताया कि दो आरोपियों को जेल भेज दिया गया है और घटना की प्रत्यक्षदर्शियों के आधार पर जांच पड़ताल की जा रही है।कटारिया परिवार से पुलिस संपर्क में है। उनकी सुरक्षा हमारा दायित्व है।

Comments

Also read:पराग अग्रवाल ट्विटर के नए सीईओ, दुनिया की बड़ी कंपनियों के शीर्ष अधिकारियों में एक और ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:एडमिरल आर. हरि कुमार बने नौसेना प्रमुख, संभाली देश की समुद्री कमान ..

संयुक्त  किसान मोर्चा में फूट, आंदोलन वापसी पर फैसला कल
बंगाल में अब पानी के साथ चावल में भी है आर्सेनिक की प्रचुर मात्रा

तिहाड़ जेल में भूख हड़ताल पर बैठा क्रिश्चिन मिशेल, अगस्ता वेस्टलैंड मामले का है आरोपी

 मिशेल ने गुरुवार से नहीं खाया है खाना, शनिवार को डॉक्टरों ने उसकी सहमति से दिया था ग्लूकोज  तिहाड़ जेल में बंद अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील मामले में कथित बिचौलिया रहे क्रिश्चियन मिशेल ने भूख हड़ताल शुरू कर दी है। उसने गुरुवार से खाना नहीं खाया है। जेल प्रशासन का कहना है कि क्रिश्चियन मिशेल के स्वास्थ्य पर निगरानी रखी जा रही है। शनिवार को डॉक्टरों ने उसकी सहमति से ग्लूकोज दिया था। फिलहाल अभी हालत स्थिर है।  जानकारी के अनुसार क्रिश्चियन मिशेल ने गुरुवार से खाना नहीं खाया ...

तिहाड़ जेल में भूख हड़ताल पर बैठा क्रिश्चिन मिशेल, अगस्ता वेस्टलैंड मामले का है आरोपी