पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

वडोदरा में धर्म जागरण के लिए अनूठी पहल, 108 मंदिरों को दिए गए लाउडस्पीकर

WebdeskAug 16, 2021, 03:20 PM IST

वडोदरा में धर्म जागरण के लिए अनूठी पहल, 108 मंदिरों को दिए गए लाउडस्पीकर

एक मंदिर को लाउडस्पीकर भेंट करते संस्था के कार्यकर्ता और कुछ अन्य समाजसेवी


गुजरात के वडोदरा शहर में 'मिशन रामसेतु' नामक एक संस्था मंदिरों को लाउडस्पीकर भेंट कर रही है, ताकि उनके जरिए सुबह—शाम मोहल्लों में धार्मिक वातावरण बनाया जा सके। संस्था का तर्क है कि कोरोना के कारण समाज में जो निराशा फैली है, उसे धार्मिक वातावरण के माध्यम से समाप्त किया जा सकता है।



कोरोना काल में भक्त मंदिर तक नहीं जा पा रहे हैं। इस कारण मंदिर में होने वाली धार्मिक गतिविधियों को भक्तों तक पहुंचाने के लिए गुजरात के एक प्रमुख शहर वडोदरा में अनूठी पहल की गई है। इसके अंतर्गत मंदिरों को लाउडस्पीकर दिए जा रहे हैं और उनसे आग्रह किया जा रहा है कि मंदिर में जब भी कोई अनुष्ठान हो उसमें लाउडस्पीकर का इस्तेमाल अवश्य करें, ताकि भक्तों को उसकी आवाज सुनाई दे। यह पहल 'मिशन रामसेतु' नामक एक संस्था ने की है। एक सप्ताह के अंदर संस्था की ओर से वडोदरा के 108 मंदिरों को लाउडस्पीकर भेंट किए गए हैं। 'मिशन रामसेतु' के अध्यक्ष दीप अग्रवाल ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण लगभग डेढ़ साल से मंदिर और अन्य धार्मिक संस्थान बंद हैं।

इस कारण इनमें न तो भक्त आ पा रहे हैं और न ही कोई अनुष्ठान हो पा रहा है। और यदि किसी मंदिर में कोरोना के नियमों का पालन करते हुए कोई अनुष्ठान होता है भी है तो उसका लाभ भक्त नहीं उठा पाते हैं। इसलिए 'मिशन रामसेतु' ने सभी मंदिरों को लाउडस्पीकर देने का अभियान शुरू किया है। जिस भी मंदिर को लाउडस्पीकर दिया जाता है, उससे आग्रह किया जाता है कि प्रात: एक घंटा और और सायं को एक घंटा नियमित रूप से कोई भजन सुनाएं, ताकि मोहल्लों में एक आध्यात्मिक वातावरण बने। इस वातावरण से लोगों को महामारी के बाद फैली निराशा से निकलने में मदद मिलेगी। उन्होंने यह भी बताया कि अब तक वडोदरा के 200 से अधिक मंदिरों की ओर से लाउडस्पीकर मांगे गए हैं। संस्था पहले हनुमान जी और भोले बाबा के मंदिरों को लाउडस्पीकर दे रही है।

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान 'मिशन रामसेतु' का गठन वडोदरा के कुछ ऐसे युवाओं ने किया है, जो अलग—अलग पेशे से जुड़े हैं। इनमें कोई सीए है, तो कोई वकील या फिर डॉक्टर। इन युवाओं ने अप्रैल और मई महीने में कोरोना पीड़ितों तक खाना पहुंचाने का काम किया था। दीप अग्रवाल ने बताया कि सभी युवा रात ढाई बजे ही जगते थे और कोरोना पीड़ितों के लिए खाना बनाते थे। खाना तैयार होने के बाद उसे बांटने के लिए भी जाते थे। प्रतिदिन लगभग 500 लोगों को भोजन दिया जाता था।

 

 

Comments

Also read: अब मुख्यमंत्री धामी ने 'एक जिला दो उत्पाद' पर काम करवाया शुरू ..

Osmanabad Maharashtra- आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

#Osmanabad
#Maharashtra
#Aurangzeb
आक्रांता औरंगजेब पर फेसबुक पोस्ट से क्यों भड़के कट्टरपंथी

Also read: कासिम ने हिन्दू महिला से किया दुष्कर्म, मामला हुआ दर्ज ..

लापता पांच ट्रैकर्स के शव मिले, अभी भी चार लोगों का पता नहीं
बिहार के रास्ते हुई घुसपैठ, नेपाल में 11 अफगानी गिरफ्तार

कोरोना की तर्ज पर नियंत्रित होंगी वायरल बीमारियां

कोरोना की तर्ज पर उत्तर प्रदेश सरकार डेंगू, मलेरिया, कॉलरा एवं टाइफाइड आदि बीमारियों की घर – घर स्क्रीनिंग करायेगी. कोरोना काल में सर्विलांस टीम ने घर – घर जाकर कोरोना के मरीजों के बारे में जानकारी हासिल की थी. ठीक उसी प्रकार अब इन रोगों को भी नियंत्रित किया जाएगा   मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डेंगू, कॉलरा, डायरिया, मलेरिया समेत वायरल से प्रभावित जनपदों में विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं. इसके साथ ही एटा, मैनपुरी और कासगंज में चिकित्सकों की टीम भेज दी गई है. दीपा ...

कोरोना की तर्ज पर नियंत्रित होंगी वायरल बीमारियां