पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

काली सूची में गईं 8 चीनी कंपनियां, सुरक्षा का हवाला देते हुए अमेरिका ने फिर उठाया सख्त कदम

Webdesk

WebdeskNov 26, 2021, 12:34 PM IST

काली सूची में गईं 8 चीनी कंपनियां, सुरक्षा का हवाला देते हुए अमेरिका ने फिर उठाया सख्त कदम
प्रतीकात्मक चित्र

जिन 27 विदेशी कंपनियों को काली सूची में डाला गया है, उनमें पाकिस्तान, सिंगापुर तथा जापान की कंपनियां भी हैं शामिल 


अमेरिका ने एक बार फिर चीन की ठसक और साजिशी सोच को लताड़ते हुए उसकी आठ कंपनियों को काली सूची में डाल दिया है। अमेरिकी प्रशासन का कहना है कि ये कंपनियां चीन की सेना की मदद कर रही थी। अमेरिका ने यह कदम इन चीनी कंपनियों सहित कुल 27 विदेशी कंपनियों के खिलाफ उठाया है। अमेरिका के इस निर्णय से चीन का चिढ़ना स्वाभाविक ही था। वाशिंगटन तथा बीजिंग के रिश्तों में तल्खी और बढ़ी है। 

बाइडेन प्रशासन के इस फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए वाशिंगटन स्थित चीनी दूतावास के प्रवक्ता ल्यू पेंग्यू का कहना है कि अमेरिका किसी न किसी तरह से चीन की कंपनियों को नियंत्रित करने हेतु अपनी शक्ति का दुरुपयोग करता रहा है। ल्यू ने कहा है कि अमेरिका को चीन से संबंध बिगाड़ने की बजाय उसके साथ मिलकर चलना चाहिए। 

 

अमेरिका की वाणिज्य मंत्री जीना रायमोंडो ने बयान जारी करके कहा है कि इन कंपनियों को काली सूची में डालने से अमेरिकी तकनीकी के चीन और रूस के सैन्य विकास में सहायक होने से रोकने में सहायता मिलेगी। इतना ही नहीं, इससे पाकिस्तान की बेलगाम परमाणु गतिविधियों या बालिस्टिक मिसाइल कार्यक्रमों पर भी लगाम लगाई जा सकेगी।


 
उल्लेखनीय है कि अमेरिकी सरकार ने 24 नवम्बर को इन चीनी कंपनियों को काली सूची में डालते हुए बताया है कि ये कंपनियां चीन की सेना पीएलए की 'क्वांटम कंप्यूटिंग' की कोशिशों को उन्नत करने में मदद दे रही थीं। इन चीनी कंपनियों को चीन की सेना की मदद में उनकी 'भूमिका' और सैन्य एप्लिकेशन की सहायता के आरोप में अमेरिकी मूल की चीजें प्राप्त करने की कोशिश के चलते काली सूची में डाला गया है। इस संदर्भ में अमेरिका की वाणिज्य मंत्री जीना रायमोंडो ने बयान जारी करके कहा है कि इन कंपनियों को काली सूची में डालने से अमेरिकी तकनीकी के चीन और रूस के सैन्य विकास में सहायक होने से रोकने में सहायता मिलेगी। इतना ही नहीं, इससे पाकिस्तान की बेलगाम परमाणु गतिविधियों या बालिस्टिक मिसाइल कार्यक्रमों पर भी लगाम लगाई जा सकेगी। 

यहां यह ध्यान देने की बात है कि चीनी कंपनियों पर यह फैसला ऐसे वक्त लिया गया है जब ताइवान को लेकर बीजिंग आएदिन अमेरिका को धमकता आ रहा है। दोनों देशों के संबंधों में जबरदस्त उतार—चढ़ाव देखने में आ रहे हैं। 

इस नए निर्णय से जिन 27 विदेशी कंपनियों को काली सूची में डाला गया है, उनमें पाकिस्तान, सिंगापुर तथा जापान की कंपनियां भी शामिल हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि बाइडेन प्रशासन के ​इस कदम से बीजिंग के तेवर और तीखे होेने की संभावना है। 

Comments

Also read:तालिबान का मीडिया के लिए नया फरमान, सरकार विरोधी रिपोर्ट छापी तो खैर नहीं ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:करतारपुर साहिब गुरुद्वारे में बिना सिर ढके पाकिस्तानी मॉडल ने खिंचवाई तस्वीरें, सिख श ..

इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर केविन पीटरसन ने दिल खोलकर की भारत की तारीफ, बताया-सबसे अच्छा देश!
कम्युनिस्ट चीन की सेना में बड़े पैमाने पर भर्ती और आधुनिकीकरण के पीछे जिनपिंग की मंशा क्या?

पाकिस्तान के हैदराबाद में हिन्दू महिला सोनारी मंदिर में पढ़ाती है कबीले के बच्चों को

सोनारी जब चौथी कक्षा में थी तभी ठान लिया था कि क़बीले के बच्चों को पढ़ना—लिखना सिखाएगी। हुसैनाबाद के एक स्कूल से मैट्रिक तक की पढ़ाई करने के बाद 2004 में सोनारी की शादी हुई और वह फलीली नहर कालोनी में अपने ससुराल आ गई  एक अनूठी कहानी का पता चला है पाकिस्तान के हैदराबाद शहर में। एक हिन्दू राजपूत महिला सोनारी बागड़ी यहां के एक मंदिर में आसपास के बच्चों को शिक्षित बनाने में जुटी है। वह यहां एक स्कूल चला रही है। अपने टोले में वह पहली ऐसी महिला है जो मैट्रिक पास है। हैदराबाद में फली ...

पाकिस्तान के हैदराबाद में हिन्दू महिला सोनारी मंदिर में पढ़ाती है कबीले के बच्चों को