पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

अफगानिस्तान के संसाधन 'लूटने' में जुटीं चीनी कंपनियां, सर्वे करने पहुंचा ड्रैगन का दल

Webdesk

WebdeskNov 25, 2021, 12:31 PM IST

अफगानिस्तान के संसाधन 'लूटने' में जुटीं चीनी कंपनियां, सर्वे करने पहुंचा ड्रैगन का दल
अफगानिस्तान के इन्हीं दुर्लभ खनिज भंडार पर है चीन की टेढ़ी नजर (फाइल चित्र)

अरबों डालर के नायाब खनिजों की खोज में चीन का एक प्रतिनिधिमंडल विशेष वीसा के तहत काबुल पहुंचा है। अनुमान है कि वह अपने यहां चल रहीं लीथियम परियोजनाओं के लिए अफगानिस्तान से खनिज ले जाना चाहता है

 

चीन के अफगानिस्तानमें तालिबान लड़ाकों से गले मिलने पर जैसी आशंकाएं जताई जा रही थीं वे अब सच होती दिख रही हैं। चीन जानता है कि अफगानिस्तान में दोहन के लिए अकूत संसाधन हैं जिनका वह अपने यहां उपयोग कर सकता है। उन संसाधनों को चीन ले जाने में कहीं तालिबान अड़ंगे न लगाएं इसलिए ड्रैगन ने उन्हें सबसे पहले गले लगाकर 'सहायता' के लिए करोड़ों डालर की राशि का अनुदान दिया। 

इतना ही नहीं, उसने पाकिस्तान के साथ सुर मिलाते हुए दूसरे देशों को अफगानिस्तान में तालिबान सत्ता को समर्थन देने की अपील की। लेकिन असलियत यह है कि अन्य चीजों के अलावा चीन की कम्युनिस्ट सरकार की नजर वहां के संसाधनों पर भी है। इसलिए ताजा समाचार है कि उसका एक प्रतिनिधिमंडल काबुल में है और संसाधनों के दोहन के लिए मौका—मुआयना कर रहा है।

कम्युनिस्ट ड्रैगन ने दूसरे पड़ोसी देशों की ही तरह अफगानिस्तान में खनिजों तथा दूसरे संसाधनों का दोहन  करने का खाका तैयार कर लिया है। अरबों डालर के नायाब खनिजों की खोज में चीन का एक प्रतिनिधिमंडल विशेष वीसा के तहत काबुल पहुंचा है। विशेषज्ञों का अनुमान है कि वह अपने यहां चल रहीं लीथियम परियोजनाओं के लिए अफगानिस्तान से खनिज ले जाना चाहता है। उसी बाबत प्रतिनिधिमंडल वहां आसार खोज रहा ह

ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट बताती है कि इस वक्त चीन की पांच कंपनियों के प्रतिनिधि अफगानिस्तान में हैं। पता चला है कि चीन की करीब 20 सरकारी तथा निजी कंपनियां मुआयने के इस अभियान के अंतर्गत विभिन्न जगहों का दौरा कर रही हैं और खनिजों के दोहन के तरीके पता लगा रही हैं। विशेषज्ञों की मानें तो असल में चीन अफगानिस्तान के अकूत संसाधनों पर आंख गड़ाए हुए है। वह बिल्कुल नहीं चाहता कि ये संसाधन भारत को हासिल हो पाएं।

चीन का सरकारी भोंपू कहे जाने वाले दैनिक समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट बताती है कि इस वक्त चीन की पांच कंपनियों के प्रतिनिधि अफगानिस्तान में हैं। पता चला है कि चीन की करीब 20 सरकारी तथा निजी कंपनियां मुआयने के इस अभियान के अंतर्गत विभिन्न जगहों का दौरा कर रही हैं और खनिजों के दोहन के तरीके पता लगा रही हैं।

चीनी कंपनियों के इस दल के निदेशक यू मिंगहुई के अनुसार, चीन चाहता है कि वह अफगानिस्तान की तालिबान सरकार का मुख्य साझीदार बनना चाहता है। जबकि विशेषज्ञों की मानें तो असल में चीन अफगानिस्तान के अकूत संसाधनों पर आंख गड़ाए हुए है। वह बिल्कुल नहीं चाहता कि ये संसाधन भारत को हासिल हो पाएं।

Comments

Also read:पीएम ने उत्तराखंड को दी 18 हजार करोड़ के योजनाओं की सौगात, कहा- अपनी तिजोरी भरने वालो ..

UPElection2022 - यूपी की जनता का क्या है राजनीतिक मूड? Panchjanya की टीम ने जनता से की बातचीत सुनिए

up election 2022 क्या कहती है लखनऊ की जनता ? आप भी सुनिए जानिए
up election 2022 opinion poll
UP Assembly election 2022

up election 2022
up election 2022 opinion poll
UP Assembly election 2022

Also read:ओवैसी के विधायक ने राष्ट्रगीत गाने से किया मना, BJP ने कहा- देशद्रोह की श्रेणी में आत ..

पूर्व  मंत्री दुर्रू मियां का ऑडियो वायरल, कार्यकर्ता से बोले- हिंदू MLA रहेंगे तो यही होता रहेगा
35 देशों में दस्तक दे चुका है ओमिक्रॉन वेरिएंट, लेकिन घबराएं नहीं, सावधानी बरतें

मध्यप्रदेश में पुलिस की डिक्शनरी से उर्दू, फारसी हटाने के निर्देश, 'बदले जाएंगे रिफ्यूजी टाइप के शब्द'

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा- ऐसे शब्द जो व्यवहार में नहीं हैं, वह बदले जाएंगे। पुलिस के द्वारा उर्दू, फ़ारसी शब्द के बजाय सरल हिंदी का इस्तेमाल किया जाएगा   मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार भाषा को लेकर बड़ा फैसला करने जा रही है। सरकार ने प्रदेश में पुलिस की डिक्शनरी से उर्दू के शब्द हटाने का फैसला किया है।  दरअसल, सीएम शिवराज सिंह चौहान, कलेक्टर और एसपी से साथ मीटिंग कर रहे थे, जहां एक एसपी ने गुमशुदा के लिए दस्तयाब शब्द का इस्तेमाल किया। इस दौरान सीएम ने इसे  मुगल काल ...

मध्यप्रदेश में पुलिस की डिक्शनरी से उर्दू, फारसी हटाने के निर्देश, 'बदले जाएंगे रिफ्यूजी टाइप के शब्द'