पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

वाशिंगटन में उबला कश्मीरी पंडितों का गुस्सा, घाटी में हिन्दुओं की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने की मांग

WebdeskOct 25, 2021, 05:04 PM IST

वाशिंगटन में उबला कश्मीरी पंडितों का गुस्सा, घाटी में हिन्दुओं की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने की मांग
कश्मीर घाटी में हिन्दुओं की हत्याओं के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन करते हुए अमेरिका में बसे कश्मीरी पंडित (फाइल चित्र) इंट्रो

पंडित समुदाय की ओर से कहा गया कि घाटी में आतंकवाद को पाकिस्तान से खाद-पानी दिया जा रहा है। कश्मीर के युवाओं को पाकिस्तान उकसाने का काम करता है


अमेरिका में अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन में वहां के कश्मीरी पंडित समुदाय ने एक कार्यक्रम करके पिछले दिनों घाटी में हुई हिन्दुओं की हत्याओं पर अपना आक्रोश जाहिर किया। उन्होंने इस्लामी आतंकवादियों द्वारा चिन्हित करके की गईं आम लोगों की हत्याओं की कड़ी निंदा की। साथ ही प्रदर्शनकारियों ने भारत सरकार से मांग की कि घाटी में अल्पसंख्यकों यानी हिन्दुओं की पुख्ता सुरक्षा सुनिश्चित की जाए। कश्मीरी पंडित समुदाय ने यहां के मशहूर 'नेशनल मॉल' में 22 अक्तूबर को दो दिन का एक कार्यक्रम आयोजित किया। इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में कश्मीरी पंडितों के अलावा अन्य प्रवासी भारतीय भी मौजूद थे। कार्यक्रम में भाग लेने वालों ने कहा कि चिन्हित करके की गईं ये हत्याएं घाटी में भयावह बनाए जा रहे परिदृश्य की ओर इशारा करती हैं। उनका कहना था कि घाटी में आतंकवाद को पाकिस्तान से खाद—पानी दिया जा रहा है। कश्मीर के युवाओं को पाकिस्तान उकसाने का काम करता है, उनके अलगाववाद का जहर पैदा करने की कोशिश करता है।


कश्मीरी पंडित समुदाय की ओर से बोलते हुए वाशिंगटन की एक कार्यकर्ता डॉ. शकुन मलिक का कहना था,‘पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंकवादी कश्मीर घाटी में जो हिन्दुओं की हत्याएं करते जा रहे हैं, उस पर सख्ती से लगाम लगाने की जरूरत है।’ उन्होंने मांग की कि भारत सरकार कश्मीर घाटी में रह रहे अल्पसंख्यक वर्ग के लोगों की सुरक्षा के लिए सभी जरूरी कदम उठाए। ऐसा न हो कि आने वाले वक्त में आतंकवादी उन्हें निशाना बना लें।

प्रेस वक्तव्य में कश्मीरी पंडित समुदाय ने कहा कि श्रीनगर में दवा की दुकान चलाने वाले मक्खन लाल बिंदरू की हत्या ने 1990 की उन डरावनी यादों को उभार दिया है जब करीब पांच लाख कश्मीरियों को अपनी जान बचाने के लिए घाटी से पलायन करना पड़ा था। बिंदरू इलाके के एक प्रमुख कश्मीरी पंडित थे और श्रीनगर में पंडित समुदाय को एकजुट रखने में सक्रिय भूमिका निभाते थे। उनकी इस महीने के आरम्भ में आतंकवादियों ने श्रीनगर में हत्या कर दी थी।


कार्यक्रम के बाद जारी प्रेस वक्तव्य में कश्मीरी पंडित समुदाय ने कहा कि श्रीनगर में दवा की दुकान चलाने वाले मक्खन लाल बिंदरू की हत्या ने 1990 की उन डरावनी यादों को उभार दिया है जब करीब पांच लाख कश्मीरियों को अपनी जान बचाने के लिए घाटी से पलायन करना पड़ा था। बिंदरू इलाके के एक प्रमुख कश्मीरी पंडित थे और श्रीनगर में पंडित समुदाय को एकजुट रखने में सक्रिय भूमिका निभाते थे। उनकी इस महीने के आरम्भ में आतंकवादियों ने श्रीनगर में हत्या कर दी थी।

उल्लेखनीय है कि कश्मीरी पंडितों ने नेशनल मॉल में यह कार्यक्रम 22 अक्तूबर को इसीलिए आयोजित किया था क्योंकि 1947 में इसी दिन पाकिस्तान ने ‘ऑपरेशन गुलमर्ग’ के अंतर्गत जम्मू-कश्मीर को मुस्लिम बहुल इलाका बताते हुए कबाइलियों के बाने में अपने फौजी भेजकर घुसपैठ कराई थी।

 

Comments

Also read:पकड़ी गई ढाका की फातिमा, पुलिस ने बरामद की पाकिस्तान में बनी श्रीलंका के रास्ते आई 7 ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:पकड़ी गई ढाका की फातिमा, पुलिस ने बरामद की पाकिस्तान में बनी श्रीलंका के रास्ते आई 7 ..

चीनी कर्ज के मकड़जाल में फंसे युगांडा के एकमात्र हवाई अड्डे पर हुआ ड्रैगन का कब्जा
ग्‍वादर में अपने सम्‍मान के लिए 12 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हजारों बलूच

पाकिस्तानियों के दिल से उतरे इमरान खान, 87 प्रतिशत जनता ने माना-देश गलत राह पर

प्रधानमंत्री इमरान खान ने लोगों के भरोसे को और डगमगाते हुए बयान दिया है कि देश का व्यापार घाटा इतना ज्यादा हो गया है कि सरकार को आईएमएफ के सामने हाथ फैलाने पड़े हैं   पाकिस्तान के आम लोग अब इमरान से खुश नहीं हैं। वे कहते हैं कि उनका देश इस सरकार के राज में गलत दिशा में बढ़ रहा है। आम जनता में अब कल के सुनहरे होने की आस टूटती जा रही है। यह खुलासा हुआ है पेरिस की एक कंपनी के ​हालिया सर्वे में। जबकि दो दिन पहले ही प्रधानमंत्री इमरान खान ने लोगों के भरोसे को और डगमगाते हुए बयान दिया है कि ...

पाकिस्तानियों के दिल से उतरे इमरान खान, 87 प्रतिशत जनता ने माना-देश गलत राह पर