पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

बौखलाए 'पाक' की 'नापाक' बयानबाजी, मंसूर ने कहा, 'सीपीईसी को नुकसान पहुंचा रहा भारत-अमेरिका षड्यंत्र'!

WebdeskOct 25, 2021, 02:43 PM IST

बौखलाए 'पाक' की 'नापाक' बयानबाजी, मंसूर ने कहा, 'सीपीईसी को नुकसान पहुंचा रहा भारत-अमेरिका षड्यंत्र'!
ग्वादर बंदरगाह पर जारी सीपीईसी का काम (फाइल चित्र)। (प्रकोष्ठ में) खालिद मंसूर

खबर है कि चीन अब पाकिस्तान को इस परियोजना से बाहर का रास्ता दिखाने का मन बना रहा है। इसी वजह से पाकिस्तान इस वक्त इस गलियारे को लेकर सांसत में है और बौखलाहट में बेमतलब के बयान दे रहा है


चीन-पाकिस्तानके बीच बड़े ढोल-धमाके के बीच जिस आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) पर काम चल रहा था, वह ताजा जानकारी के अनुसार, पाकिस्तानी कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर में भारी विरोध के चलते डगमगाने लगी है। पिछले दिनों चीनी इंजीनियरों पर जानलेवा हमलों के बाद बीजिंग भी पाकिस्तानी हुक्मरानों से नाराज चल रहा है। एक खबर तो यह भी आई थी कि चीन अब पाकिस्तान को इस परियोजना से बाहर का रास्ता दिखाने का मन बना रहा है। कुछ भी हो, पाकिस्तान इस वक्त इस गलियारे को लेकर सांसत में है और बौखलाया हुआ है।

इसी बौखलाहट की वजह से शायद कल पाकिस्तान में इस परियोजना के निगरानीकर्ता प्रधानमंत्री इमरान खान के विशेष सहायक खालिद मंसूर अपने भाषण में यहां तक बोल गए कि अमेरिका अरबों डॉलर की इस परियोजना को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहा है। कराची में इंस्टीट्यूट ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में इस आर्थिक गलियारे के संदर्भ में एक सम्मेलन में मंसूर ने कहा है कि सामने आ रहे भू-रणनीतिक हालात को देखते हुए साफ है कि अमेरिका सीपीईसी के विरोध में है। इसमें उसे भारत का समर्थन प्राप्त है। पाकिस्तान के दैनिक 'द डॉन' की रिपोर्ट के अनुसार, पश्चिम के कई थिंक टैंक सीपीईसी को चीन का एक आर्थिक मकड़जाल करार दे चुके हैं जिसकी वजह से सार्वजनिक ऋण कई गुना बढ़ चुका है।

 उल्लेखनीय है कि इस आर्थिक गलियारे यानी सीपीईसी की शुरुआत 2015 में उस वक्त हुई थी जब चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग पाकिस्तान के दौरे पर थे। यह परियोजना पश्चिमी चीन सड़क, रेलवे तथा बुनियादी ढांचे व विकास की अन्य परियोजनाओं के संजाल के माध्यम से दक्षिण-पश्चिमी पाकिस्तान में ग्वादर बंदरगाह से जुड़ेगा।

इमरान के सहयोगी मंसूर का आगे कहना था कि अमेरिका तथा भारत 'पाकिस्तान को चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (बीआरआई) से बाहर' करने की फिराक में हैं। जबकि इसके तहत चीन सरकार करीब 70 देशों में बहुत ज्यादा पैसा लगा रही है। इस परियोजना पर अभी 27.3 अरब अमेरिकी डॉलर से लगभग 71 परियोजनाओं को संचालित किया जा रहा है। पाकिस्तान को उम्मीद है कि इस परियोजना के पूरे होने से उसकी कंगाली खत्म हो जाएगी और उसे खूब पैसा मिलेगा।

मंसूर का आगे कहना था कि अमेरिका तथा भारत 'पाकिस्तान को चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव से बाहर' करने की फिराक में हैं। जबकि इसके तहत चीन सरकार करीब 70 देशों में बहुत ज्यादा पैसा लगा रही है। इस परियोजना पर अभी 27.3 अरब अमेरिकी डॉलर से लगभग 71 परियोजनाओं को संचालित किया जा रहा है। पाकिस्तान को उम्मीद है कि इस परियोजना के पूरे होने से उसकी कंगाली खत्म हो जाएगी और उसे खूब पैसा मिलेगा।

 

ठीक यही दर्द मंसूर की बात में झलका जब उन्होंने कहा कि 'हम अपना मुनाफा किसी भी कीमत पर नहीं छोड़ेंगे। हम पहले भी पश्चिम से गठजोड़ करके भुगत चुके हैं, अब ऐसा नहीं होगा'। उनका कहना था कि क्षेत्र में चीन के सामरिक असर को कम करने की तमाम कोशिशें असफल होंगी। अमेरिका अब इस क्षेत्र से पीछे हटने का मन बना रहा है और इससे होने वाले आर्थिक तथा राजनीतिक नतीजे तोल रहा है।


 


 

Comments

Also read:पकड़ी गई ढाका की फातिमा, पुलिस ने बरामद की पाकिस्तान में बनी श्रीलंका के रास्ते आई 7 ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:पकड़ी गई ढाका की फातिमा, पुलिस ने बरामद की पाकिस्तान में बनी श्रीलंका के रास्ते आई 7 ..

चीनी कर्ज के मकड़जाल में फंसे युगांडा के एकमात्र हवाई अड्डे पर हुआ ड्रैगन का कब्जा
ग्‍वादर में अपने सम्‍मान के लिए 12 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हजारों बलूच

पाकिस्तानियों के दिल से उतरे इमरान खान, 87 प्रतिशत जनता ने माना-देश गलत राह पर

प्रधानमंत्री इमरान खान ने लोगों के भरोसे को और डगमगाते हुए बयान दिया है कि देश का व्यापार घाटा इतना ज्यादा हो गया है कि सरकार को आईएमएफ के सामने हाथ फैलाने पड़े हैं   पाकिस्तान के आम लोग अब इमरान से खुश नहीं हैं। वे कहते हैं कि उनका देश इस सरकार के राज में गलत दिशा में बढ़ रहा है। आम जनता में अब कल के सुनहरे होने की आस टूटती जा रही है। यह खुलासा हुआ है पेरिस की एक कंपनी के ​हालिया सर्वे में। जबकि दो दिन पहले ही प्रधानमंत्री इमरान खान ने लोगों के भरोसे को और डगमगाते हुए बयान दिया है कि ...

पाकिस्तानियों के दिल से उतरे इमरान खान, 87 प्रतिशत जनता ने माना-देश गलत राह पर