पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

इकबाल हुसैन ने रखी थी पूजा मंडप में कुरान, पोस्ट साझा करने से भड़के हिन्दू विरोधी दंगे, बांग्लादेश पुलिस ने किया खुलासा

WebdeskOct 21, 2021, 03:57 PM IST

इकबाल हुसैन ने रखी थी पूजा मंडप में कुरान, पोस्ट साझा करने से भड़के हिन्दू विरोधी दंगे, बांग्लादेश पुलिस ने किया खुलासा
बांग्लादेश में हिन्दू विरोधी हिंसा के विरुद्ध एक रैली में अपना आक्रोश प्रकट करती हुई एक महिला

 पुलिस ने दुर्गा पूजा पंडालों के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगालने के बाद वीडियो फुटेज पर नजर डालकर इकबाल हुसैन की पहचान की है


आखिरकार उस व्यक्ति की पहचान कर ली गई है जिसने साजिश के तहत बांग्लादेश में कोमिला के दुर्गा पूजा मंडप में कुरान रख थी। इतना ही नहीं, उसकी फोटो खींची और फेसबुक पर साझा की, जिससे उन्मादी मुस्लिम तत्व भड़के और हिन्दुओं के विरुद्ध पूरे बांग्लादेश में सुनियोजित हिंसा फैलाई गई।
बांग्लादेश पुलिस के अनुसार, पूजा मंडप में कुरान रखने वाले व्यक्ति की पहचान सीसीटीवी फुटेज से हुई है। पुलिस ने हिन्दू विरोधी हिंसा भड़काने के लिए इकबाल हुसैन को जिम्मेदार ठहराया है। ढाका ट्रिब्यून में छपे समाचार के अनुसार, कोमिला के पुलिस अधीक्षक फारुख अहमद ने बताया कि नूर मोहम्मद का बेटा इकबाल हुसैन मुरादपुर-लसकरपुर का रहने वाला है।

पुलिस अधीक्षक फारुख अहमद ने बताया कि अपराधी इकबाल हुसैन मुरादपुर-लसकरपुर का रहने वाला है। 35 साल के इकबाल हुसैन ने ही गत 13 अक्तूबर को कोमिला में एक दुर्गा पूजा पंडाल में कुरान रखी थी, जिससे हिंसा भड़की। पुलिस ने दुर्गा पूजा पंडालों के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगालने के बाद वीडियो फुटेज पर नजर डालकर इकबाल हुसैन की पहचान की है।


अहमद ने आगे बताया है कि 35 साल के इकबाल हुसैन ने ही गत 13 अक्तूबर को कोमिला में एक दुर्गा पूजा पंडाल में कुरान रखी थी, जिससे हिंसा भड़की। ढाका ट्रिब्यून की रिपोर्ट में आगे है कि पुलिस ने दुर्गा पूजा पंडालों के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगालने के बाद वीडियो फुटेज पर नजर डालकर इकबाल हुसैन की पहचान की है। हालांकि इन पंक्तियों के लिखे जाने तक वह पकड़ा नहीं गया है। फुटेज में साफ दिख रहा है कि हुसैन ने एक स्थानीय मस्जिद से कुरान ली, फिर वह दुर्गा पूजा पंडाल की तरफ गया। बाद में उसने वह भगवान हनुमान के पास रखा।

पुलिस का कहना है कि देश के विभिन्न हिस्सों से 450 से ज्यादा संदिग्ध उन्मादियों को गिरफ्तार किया गया है, जिनमें से चालीस कोमिला की घटना के दोषी हैं। चार ऐसे संदिग्ध पकड़े गए हैं जिन्होंने हुसैन का सहयोग किया था।

 

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 22 2021 16:43:31

हिंदुओं के पवित्र दुर्गा पंडाल में कुरान रखकर मुस्लिम इकबाल हुसैन और उसके साथियों ने दुर्गा पंडाल और हिंदुओं को अपवित्र किया है पवित्र ग्रंथ वेद पुराण उपनिषद का अध्ययन आजीवन हिंदुओं को करना चाहिए जय हिंदू राष्ट्र जय सनातन धर्म जय बाबा विश्वनाथ

user profile image
Anonymous
on Oct 22 2021 00:21:24

बांग्लादेश में हिन्दुओं के प्रति आग लगाने के लिए, बांग्लादेश से सटे देश और राज्य दोनों भागीदार है। यह सब एक सोची समझी साज़िश के तहत षड्यंत्र रचा जा रहा है। बांग्लादेश को यह नही भूलना चाहिए, की हिन्दुस्तान में भी बांग्लादेशी रह रहे हैं। 🙏🌹जय🌷श्री🌷राम🌹🙏

user profile image
Anonymous
on Oct 21 2021 16:15:59

ठीक है आपको पता चल गया कि यह कांड किसने किया है तो क्या मरे हुए लोगों की जान वापस आ जाएगी यही तो खेल है जिसे लोग समझ नहीं पा रहे हैं या समझना नहीं चाहते

Also read:विपक्षी हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल हुआ पास ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:शिक्षा : भाषाओं के लिए आगे आई भारत सरकार ..

संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश, खुफिया विभाग ने किया अलर्ट
मथुरा में 6 दिसंबर को  बाल गोपाल के जलाभिषेक कार्यक्रम को नहीं मिली अनुमति, धारा 144 हुई लागू

जी उठे महाराजा

एयर इंडिया एक निजी एयरलाइन थी जिसने उद्यमिता की उड़ान भरी और अपनी सेवाओं से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर साख बनाई। इसे देखते हुए इसके राष्ट्रीयकरण तक तो हालात ठीक थे परंतु राजनीति के चलते मनमानी व्यवस्थाओं और भीतर पलते भ्रष्टाचार ने इसे खोखला कर दिया। इससे साख में सुराख हुआ। विनिवेश से अब फिर महाराजा की साख लौटने की उम्मीद मनीष खेमका 68 वर्ष, यानी लगभग सात दशक बाद महाराजा फिर जी उठे। जी हां। 1953 में दुनिया में प्रतिष्ठा अर्जित करने वाली टाटा एयरलाइंस, जिसके शुभंकर थे ‘महाराजा’, का भार ...

जी उठे महाराजा