पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

क्या इस्लामिक नहीं, सेक्युलर देश बनेगा बांग्लादेश! हिंदू विरोधी मजहबी उन्माद के बीच बांग्लादेश के मंत्री ने दिया बयान

WebdeskOct 21, 2021, 04:17 PM IST

क्या इस्लामिक नहीं, सेक्युलर देश बनेगा बांग्लादेश! हिंदू विरोधी मजहबी उन्माद के बीच बांग्लादेश के मंत्री ने दिया बयान
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डॉ. मुराद हसन

मंत्री डॉ. मुराद हसन का कहना है कि उनकी रगों में आजादी के सेनानियों का खून बह रहा है। उन्हें किसी भी कीमत पर 1972 के संविधान पर लौटना ही होगा


बांग्लादेशमें हिंदू विरोधी मजहबी उन्माद की विभीषिका के दौरान वहां के एक वरिष्ठ मंत्री का बयान सबको चौंका गया है। मंत्री डॉ. मुराद हसन ने बयान दिया है कि बांग्लादेश एक सेक्युलर देश है। लोग सवाल पूछने लगे हैं कि क्या बांग्लादेश अब इस्लामिक देश नहीं रहेगा? क्या एक बार फिर 1972 का संविधान लागू किया जाएगा!

एक निश्चित अंतराल के बाद बांग्लादेश में एक बार फिर हिंदुओं के विरुद्ध वहां की कट्टरवादी इस्लामी ताकतों ने अपनी हिंसक नफरत का प्रदर्शन करते हुए हिन्दुओं के मंदिरों, घरों, दुकानों और गांवों को निशाना बनाया है। गत सप्ताह से जारी हिन्दू दमन के चलते अनेक स्थानों से आगजनी के समाचार प्राप्त हुए हैं। मजहबी उन्माद की तपिश के बीच देश के सूचना राज्य मंत्री मुराद हसन ने यह बयान देकर सबको चौंका दिया है कि बांग्लादेश एक सेक्युलर देश है, जो फिर से बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान के 1972 में बनाए संविधान की तरफ लौटेगा। उन्होंने साफ कहा है कि बांग्लादेश मजहबी कट्टरपंथियों का अड्डा नहीं बन सकता।

मुराद हसन का कहना है कि उनकी रगों में आजादी के सेनानियों का खून बह रहा है। उन्हें किसी भी कीमत पर 1972 के संविधान पर लौटना ही होगा। मुराद ने कहा, ''मैं संसद में बंगबंधु के संविधान पर लौटने की पैरवी करूंगा। कोई बोले न बोले, मुराद तो संसद में बोलेगा।' उन्होंने ये बयान बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान के पुत्र शेख रस्सल की 57वीं जयंती के मौके पर इंजीनियर्स इंस्टीट्यूशन बांग्लादेश को संबोधित करते हुए दिया। उन्होंने इसी भाषण में यह भी कहा कि बांग्लादेश का मजहब इस्लाम नहीं है।

मुराद का कहना है कि 'मुझे नहीं लगता इस्लाम हमारे देश का मजहब है। हम फिर से 1972 के संविधान पर लौटेंगे। हम संसद में प्रधानमंत्री शेख हसीना की अगुआई में यह विधेयक पास कराएंगे। यह एक गैर-सांप्रदायिक बांग्लादेश है। बांग्लादेश एक सेक्युलर देश है।'

 


मजहबी उन्माद की तपिश के बीच देश के सूचना राज्य मंत्री मुराद हसन ने यह बयान देकर सबको चौंका दिया है कि बांग्लादेश एक सेक्युलर देश है, जो फिर से बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान के 1972 में बनाए संविधान की तरफ लौटेगा। उन्होंने साफ कहा है कि बांग्लादेश मजहबी कट्टरपंथियों का अड्डा नहीं बन सकता। 

Comments

Also read:चीनी कर्ज के मकड़जाल में फंसे युगांडा के एकमात्र हवाई अड्डे पर हुआ ड्रैगन का कब्जा ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:ग्‍वादर में अपने सम्‍मान के लिए 12 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हजारों बलूच ..

पाकिस्तानियों के दिल से उतरे इमरान खान, 87 प्रतिशत जनता ने माना-देश गलत राह पर
सोलोमन द्वीप पर दंगे और आगजनी, ताइवान को छोड़ चीन के पाले में जाने के सरकार के फैसले से लोग नाराज

सेना की जमीन क्या शादी के मंडप बनाने को मिली है? पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने रक्षा सचिव से मांगा जवाब

कोर्ट ने फौज की जमीन के व्यावसायिक प्रयोग के मामले में देश के रक्षा सचिव से जवाब तलब किया है। पूछा गया है कि 'क्या सिनेमा तथा शादी के मंडपों को बनाने के पीछे कोई रक्षा से जुड़ा मकसद' है   पाकिस्तान में जो न हो सो कम है। पता चला है कि वहां सेना की जमीन पर शादी—ब्याह पर नाच—गाने हो रहे हैं। इतना ही नहीं, फौज की संरक्षित जमीन फिल्मों के लिए किराए पर देकर पैसे बनाए जा रहे हैं। यानी वहां की सेना ने ही देश के रक्षा अधिष्ठान का मखौल बनाकर रख दिया है। इस जानकारी पर पाकिस ...

सेना की जमीन क्या शादी के मंडप बनाने को मिली है? पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने रक्षा सचिव से मांगा जवाब