पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

चीन जाकर फिर कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता लगाएगा विशेषज्ञों का नया दल

WebdeskOct 15, 2021, 03:56 PM IST

चीन जाकर फिर कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता लगाएगा विशेषज्ञों का नया दल
प्रतीकात्मक चित्र

डब्ल्यूएचओ ने अब 26 विशेषज्ञों का एक नया सलाहकार समूह बनाकर उसे फिर से चीन भेजने और कोरोना की उत्पत्ति की पूरी जांच करके अपनी रिपोर्ट सौंपने को कहा है


आजदो साल हो गए पूरी दुनिया को कोरोना की भीषण तबाही झेलते हुए। इस महामारी की उत्पत्ति कैसे हुई, कहां से हुई इसे लेकर आज भी धुंधलका बना हुआ है। दुनिया भर के कई विशेषज्ञ इसमें चीन की भूमिका और उसकी वुहान लैब पर उंगली उठा चुके हैं, लेकिन चीन यह मानने को बिल्कुल भी तैयार नहीं है कि उसने यह महामारी उपजाई है। कई शोधों के निष्कर्ष साफ दिखा रहे हैं कि वुहान की लैब में ही चमगादड़ों के जरिए यह बीमारी उपजाई गई है। दुनिया के शीर्ष वैज्ञानिकों, जिसमें चीन के भी कुछ वैज्ञानिक शामिल हैं, ने कोरोना वायरस को चीन की लैब में तैयार हुआ बताया है। लेकिन चीन ऐसे किसी भी शोध या प्रयोग को नहीं मानता। अब दुनियाभर के दबाव के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक बार फिर से यह पता लगाने के लिए एक समूह बनाया है। यह दल वुहान जाकर नए सिरे से जांच करेगा।

कोरोना वायरस कहां से और कैसे फैला, इस सवाल ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को एक बार फिर से यह पता लगाने को बाध्य किया है कि कोविड वायरस की उत्पत्ति कहां हुई है। डब्ल्यूएचओ ने अब 26 विशेषज्ञों का एक नया सलाहकार समूह बनाकर उसे फिर से चीन भेजने और कोरोना की उत्पत्ति की पूरी जांच करके अपनी रिपोर्ट सौंपने को कहा है।

 

 दुनिया के शीर्ष वैज्ञानिकों, जिसमें चीन के भी कुछ वैज्ञानिक शामिल हैं, ने कोरोना वायरस को चीन की लैब में तैयार हुआ बताया है। लेकिन चीन ऐसे किसी भी शोध या प्रयोग को नहीं मानता। अब दुनियाभर के दबाव के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक बार फिर से यह पता लगाने के लिए एक समूह बनाया है।


उल्लेखनीय है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन का एक दल मार्च 2021 में चीन के वुहान शहर गया था। वहां अपनी चार हफ्तों की जांच के बावजूद वह किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाया था। तब कहा गया था कि चीन ने उसे पूरा सहयोग नहीं दिया था और महत्वपूर्ण डाटा दबा दिया था। तब विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम ने रिपोर्ट जारी करके कहा था कि यह संभव है कि कोरोना वायरस चमगादड़ से किसी दूसरे जानवर में गया हो और वहां से इंसानों में पहुंचा हो। लेकिन अभी और जांच करने की जरूरत है। टीम ने कहा था कि उसे महामारी के शुरुआती दिनों के डाटा नहीं मिले थे इससे जांच में दिक्कत आई थी। उस टीम ने वुहान लैब की पूरी जांच करने की सलाह दी थी। इसीलिए इस बार डब्ल्यूएचओ ने चीन से कहा है कि वह एकदम शुरू से इससे जुड़े आंकड़े उपलब्ध कराए। संगठन ने यह भी कहा है कि संभव है कोरोना वायरस की उत्पत्ति की यह जांच आखिरी हो।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के इस नए विशेषज्ञ दल में दुनियाभर से मिले 700 आवेदनों में से 26 विशेषज्ञ लिए गए हैं जो दुनिया में अपने काम के लिए जाने जाते हैं। ये विशेषज्ञ पशु स्वास्थ्य, क्लिनिकल मेडिसिन, वायरोलॉजी और जीनोमिक्स के दिग्गज लोग हैं। अब देखना है कि ये नया जांच दल कब चीन जा पाएगा, कब वुहान लैब में दाखिल हो पाएगा, उसे चीन के लोग कितना सहयोग देंगे और वह अपनी रपट में क्या निष्कर्ष सामने रखेगा।

 

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Oct 16 2021 22:02:14

जइये चीन चाइनीज वायरस की उत्पत्ती को ढ़ूढने देशी वामपंथी हो या वर्ल्ड कम्युनिस्ट ये इतना संगठीत है जो ये चाहता है दुनिया वो ही जान पाता है। बाकी कुछ नहीं दाग ढूंढते रह जाओगे।

Also read:चीनी कर्ज के मकड़जाल में फंसे युगांडा के एकमात्र हवाई अड्डे पर हुआ ड्रैगन का कब्जा ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:ग्‍वादर में अपने सम्‍मान के लिए 12 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हजारों बलूच ..

पाकिस्तानियों के दिल से उतरे इमरान खान, 87 प्रतिशत जनता ने माना-देश गलत राह पर
सोलोमन द्वीप पर दंगे और आगजनी, ताइवान को छोड़ चीन के पाले में जाने के सरकार के फैसले से लोग नाराज

सेना की जमीन क्या शादी के मंडप बनाने को मिली है? पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने रक्षा सचिव से मांगा जवाब

कोर्ट ने फौज की जमीन के व्यावसायिक प्रयोग के मामले में देश के रक्षा सचिव से जवाब तलब किया है। पूछा गया है कि 'क्या सिनेमा तथा शादी के मंडपों को बनाने के पीछे कोई रक्षा से जुड़ा मकसद' है   पाकिस्तान में जो न हो सो कम है। पता चला है कि वहां सेना की जमीन पर शादी—ब्याह पर नाच—गाने हो रहे हैं। इतना ही नहीं, फौज की संरक्षित जमीन फिल्मों के लिए किराए पर देकर पैसे बनाए जा रहे हैं। यानी वहां की सेना ने ही देश के रक्षा अधिष्ठान का मखौल बनाकर रख दिया है। इस जानकारी पर पाकिस ...

सेना की जमीन क्या शादी के मंडप बनाने को मिली है? पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने रक्षा सचिव से मांगा जवाब