पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

तालिबान प्रवक्ता ने कहा, भारत करेगा अफगानिस्तान में मानवीय सहायता के काम

WebdeskOct 22, 2021, 04:17 PM IST

तालिबान प्रवक्ता ने कहा, भारत करेगा अफगानिस्तान में मानवीय सहायता के काम
मास्को वार्ता में शामिल भारतीय प्रतिनिधिमंडल (सबसे दाएं)

रूस में तालिबान के साथ यह वार्ता भारत के विदेश मंत्रालय में पाकिस्तान-अफगानिस्तान-ईरान इकाई के संयुक्त सचिव जे. पी. सिंह की अगुआई में गए भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने की थी


मास्को में अफगानिस्तान की परिस्थितियों पर चर्चा के लिए रूस द्वारा आयोजित बैठक में तालिबान के प्रतिनिधिमंडल और भारतीय दल के बीच बातचीत हुई। उल्लेखनीय है कि अफगानिस्तान में अंतरिम सरकार में उप प्रधानमंत्री अब्दुल सलाम हनफी की अगुआई में तालिबान के एक प्रतिनिधिमंडल ने 20 अक्तूबर को मास्को में भारतीय प्रतिनिधिमंडल से कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की।

इस बैठक में भारत ने युद्धग्रस्त अफगानिस्तान को बड़े पैमाने पर मानवीय सहायता देने की इच्छा जताई और कहा कि भारत इसके लिए पूरी तरह से तैयार है। यह वार्ता भारत के विदेश मंत्रालय में पाकिस्तान-अफगानिस्तान-ईरान इकाई के संयुक्त सचिव जे. पी. सिंह की अगुआई में गए भारतीय प्रतिनिधिमंडल और तालिबान नेताओं के बीच हुई थी।

बातचीत के बाद, तालिबान के प्रवक्ता जबीहउल्लाह मुजाहिद ने बयान जारी करके बताया कि 'दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडलों के बीच यह वार्ता मास्को सम्मेलन के समानांतर हुई थी। हालांकि बातचीत पर भारत की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

तालिबान के साथ 31 अगस्त को दोहा में भारत का पहला औपचारिक संपर्क हुआ था। पर, 20 अक्तूबर की यह वार्ता पिछले महीने तालिबान की अंतरिम सरकार बनने के बाद दोनों पक्षों के बीच पहली औपचारिक चर्चा थी। अफगानिस्तान में बुनियादी ढांचे के साथ ही शिक्षा, चिकित्सा, व्यापार आदि विभिन्न क्षेत्रों में भारत उसका लंबे वक्त से सहयोग करता आ रहा है। अगर कहें कि लोकतांत्रिक अफगानिस्तान का सबसे बड़ा हितैषी कोई रहा है तो वह भारत ही है और इस तथ्य को अफगानिस्तान की आम जनता बखूबी जानती है।


उल्लेखनीय है कि तालिबान के साथ 31 अगस्त को दोहा में भारत का पहला औपचारिक संपर्क हुआ था। पर, 20 अक्तूबर की यह वार्ता पिछले महीने तालिबान की अंतरिम सरकार बनने के बाद दोनों पक्षों के बीच पहली औपचारिक चर्चा थी।

अफगानिस्तान में बुनियादी ढांचे के साथ ही शिक्षा, चिकित्सा, व्यापार आदि विभिन्न क्षेत्रों में भारत उसका लंबे वक्त से सहयोग करता आ रहा है। अगर कहें कि लोकतांत्रिक अफगानिस्तान का सबसे बड़ा हितैषी कोई रहा है तो वह भारत ही है और इस तथ्य को अफगानिस्तान की आम जनता बखूबी जानती है।

रूस में भारत की तालिबान के साथ हुई इस ताजा वार्ता पर तालिबानी प्रवक्ता मुजाहिद का कहना था कि दोनों पक्षों ने आपसी चिंताओं का ध्यान रखने तथा राजनयिक और आर्थिक संबंधों को सुधारने की जरूरत को भी रेखांकित किया।

 

Comments

Also read:संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की साजिश, खुफिया विभाग ने किया अलर्ट ..

UP Chunav: Lucknow के इस मुस्लिम भाई ने खोल दी Akhilesh-Mulayam की पोल ! | Panchjanya

योगी जी या अखिलेश... यूपी का मुसलमान किसके साथ? इसको लेकर Panchjanya की टीम ने लखनऊ में एक मुस्लिम रिक्शा चालक से बात की. बातों-बातों में इस मुस्लिम भाई ने अखिलेश और मुलायम की पोल खोलकर रख दी.सुनिए ये योगी जी को लेकर क्या सोचते हैं और यूपी में 2022 में किसपर भरोसा करेंगे.
#Panchjanya #UPChunav #CMYogi

Also read:जी उठे महाराजा ..

नेताओं, अफसरों ने की एयर इंडिया की दुर्दशा
धर्म और हिंदुत्व भारतीय इतिहास के मूलाधार हैं: डॉ मोहन भागवत

अयोध्या में मस्जिद के लिए जगह देना अनुचित, यहां तीन-तीन पाकिस्तान बनाने की होगी तैयारी : शंकराचार्य

धर्म, विज्ञान और रक्षा के प्रति जागरुक हैं प्रधानमंत्री, यह देश के लिए शुभ: शंकराचार्य   हल्द्वानी में गोवर्धन पुरी पीठ के शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती जी ने कहा कि देश के वर्तमान प्रधानमंत्री धर्म, विज्ञान और रक्षा के प्रति आस्था और जागरुक परिलक्षित होते दिखाई देते हैं, जो देश के लिए शुभ है। यह देश हिन्दू राष्ट्र घोषित होना चाहिए। शंकराचार्य ने अयोध्या में मस्जिद के लिए जगह देने को अनुचित करार देते हुए कहा कि आने वाले समय मे काशी, मथुरा में भी इसकी पुनरावृत्ति होगी और यहां मक्का जैस ...

अयोध्या में मस्जिद के लिए जगह देना अनुचित, यहां तीन-तीन पाकिस्तान बनाने की होगी तैयारी : शंकराचार्य