पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

काबुल के असमाई देवी मंदिर में भजन-कीर्तन की गूंज, अष्टमी पर भंडारे का आयोजन

WebdeskOct 14, 2021, 11:53 AM IST

काबुल के असमाई देवी मंदिर में भजन-कीर्तन की गूंज, अष्टमी पर भंडारे का आयोजन
वीडियो से लिये गये चित्र

वायरल हुए वीडियो में जिसमें काबुल के असमाई मंदिर में भक्तजन 'हरे राम-हरे कृष्ण' गाते दिख रहे हैं


अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद वहां बचे गिनती के हिन्दू—सिख परिवारोें ने अपने उत्सव—त्योहारों पर भजन—कीर्तन की परंपरा जारी रखी है। यह साफ होता है एक वायरल हुए वीडियो से जिसमें काबुल के असमाई मंदिर में भक्तजन 'हरे राम-हरे कृष्ण' गाते दिख रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि कट्टर मजहबी और शरिया पर राज चला रहे तालिबान लड़ाकों की हैवानियत ने पूरे देश में अल्पसंख्यकों यानी पीढ़ियों से वहां बसे हिन्दू-सिखों में दहशत पैदा कर दी है। लेकिन ऐसे में भी इन लोगों ने प्रभु भक्ति के बल पर अपने अंदर एक हौसला, एक उम्मीद कायम रखी है। वायरल हुए वीडियो ने अफगानिस्तान ही नहीं, बल्कि दुनियाभर के हिन्दुओं में एक आस पैदा की है और खौफ को कुछ कम किया है। पूरी दुनिया में नवरात्रि का उत्सव धूमधाम से मनाया गया है जो अफगानिस्तान के हिन्दू भी भला पीछे क्यों रहते। वे जितनी संभव हो पाई उतनी संख्या में काबुल के असमाई मंदिर गए और देवी मां के भजन के साथ ही 'हरे राम-हरे कृष्ण' का सस्वर गान किया। इसमें महिलाओं और पुरुषों को ढोलक और मंजीरों के साथ कीर्तन करते हुए देखा जा सकता है। यह वीडियो सोशल मीडिया पर काफी साझा किया गया है।

स्थानीय हिंदुओं लोगों ने काबुल के प्राचीन असमाई मंदिर में नवरात्रि का त्योहार मनाया। रविंदर के अनुसार,
मंदिर में एकत्र हिंदुओं ने भारत सरकार से अपील की कि बढ़ती आर्थिक तथा सामाजिक परेशानियों को देखते हुए
उन्हें वहां से जल्द से जल्द निकाला जाए। केस खाने-पीने तक के पैसे नहीं हैं।


एक पत्रकार, रविंदर सिंह रॉबिन ने अपने ट्विटर हैंडल पर मंदिर में भक्तों के 'हरे-राम, हरे-कृष्ण' भजन का वीडियो साझा किया है। वीडियो के साथ उन्होंने लिखा है कि गत सोमवार रात को स्थानीय हिंदुओं लोगों ने काबुल के प्राचीन असमाई मंदिर में नवरात्रि का त्योहार मनाया। रविंदर के अनुसार, मंदिर में एकत्र हिंदुओं ने भारत सरकार से अपील की कि बढ़ती आर्थिक तथा सामाजिक परेशानियों को देखते हुए उन्हें वहां से जल्द से जल्द निकाला जाए।
मंदिर में हुए इस कार्यक्रम में हिन्दुओं और सिखों ने भंडारे का आयोजन कर जरूरतमंदों को भोजन भी कराया। अफगानिस्तान में इन दिनों खाने के लाले पड़े हुए हैं ऐसे में भंडारे का आयोजन कर उन्होंने स्थानीय निवासियों का दिल जीत लिया।
 

#Flash-
The members of Hindu community in Afghanistan last night celebrated the ongoing Navratri festival at the ancient Asamai Mandir in #Kabul .
They appealed Govt of India for their early evacuation due to acute economic and social hardships being faced by them.
V @PSCINDIAN pic.twitter.com/VyDnHO3zWT

— Ravinder Singh Robin ਰਵਿੰਦਰ ਸਿੰਘ رویندرسنگھ روبن (@rsrobin1) October 12, 2021

 


 

Comments

Also read: बांग्लादेश : चरम पर हिन्दू दमन ..

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

kashmir में हिंदुओं पर हमले के पीछे ISI कनेक्शन आया सामने | Panchjanya Hindi

Also read: लगातार बनाया जा रहा है निशाना ..

अफवाह की आड़ मेंं हिंदुओं पर आफत
नेपाल के साथ बढ़ेगा संपर्क, भारत ने तैयार की बिहार के जयनगर से नेपाल के कुर्था तक की रेल लाइन

'अफगानिस्तान को नहीं निगल सकता पाकिस्तान', पूर्व राष्ट्रपति सालेह ने तालिबान के दोस्त पाकिस्तान को लगाई लताड़

सालेह ने नई पोस्ट में साफ कहा है कि उन्हें तालिबान की गुलामी स्वीकार नहीं है। याद रहे, सालेह काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद अफगानिस्तान छोड़ने के बजाय पंजशीर घाटी चले गए थे अमरुल्लाह सालेह ने 49 दिन बाद एक बार किसी अनजान जगह से सोशल मीडिया पर पाकिस्तान को खूब खरी—खोटी सुनाई है। उल्लेखनीय है कि पंजशीर घाटी पर तालिबान के कब्जे की पाकिस्तान के दुष्प्रचार तंत्र ने खूब खबरें उड़ाई थीं। उसी दौरान अफगानिस्तान के अपदस्थ उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने वीडियो जारी किया था और साफ बताया था क ...

'अफगानिस्तान को नहीं निगल सकता पाकिस्तान', पूर्व राष्ट्रपति सालेह ने तालिबान के दोस्त पाकिस्तान को लगाई लताड़