पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

सिखों पर जुल्म करने से बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान

Alok Goswami

Alok GoswamiJan 07, 2022, 11:13 PM IST

सिखों पर जुल्म करने से बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान
प्रतीकात्मक चित्र

अल अरबिया पोस्ट की रिपोर्ट बताती है कि करतारपुर गलियारे के संदर्भ में वहां कहा गया है कि सरकारी लेखेजोखे में गड़बड़ियां पाई गई हैं

 

पड़ोसी इस्लामी देश सिख समुदाय को लगातार अपनी नफरती राजनीति का शिकार बना रहा है। किसी न किसी बहाने इस अल्पसंख्यक समुदाय को अपमानित किया जा रहा है। सरकारी दफ्तर हों या अन्य स्थान, सिखों को अपने पंथ के अनुसार रहने या बपनी बात रखने से रोका जा रहा है। हाल में अल अरबिया पोस्ट में इस विषय पर एक रिपोर्ट प्र​काशित की गई है। इन सब चीजों का खुलासा होने के बाद वहां पहले से बदतर बर्ताव झेल रहे सिख समुदाय में रोष व्याप्त है। 

पाकिस्तान में बड़े सुनियोजित तरीके से सिख अल्पसंख्यकों की भावनाओं को ठेस पहुंचाई जा रही है। है। अल अरबिया पोस्ट की रिपोर्ट बताती है कि करतारपुर गलियारे के संदर्भ में वहां कहा गया है कि सरकारी लेखेजोखे में गड़बड़ियां पाई गई हैं। इतना ही नहीं, जिस अंडरपास का नाम सालों से 'गुलाब देवी लाहौर अंडरपास' था उसका नाम बदल दिया गया है। अब उसे 'अब्दुल सत्तार ईधी' कर दिया गया है। खैबर पख्तूनख्वा सूबे में सरकारी दफ्तरों में अब सिखों को अपनी कृपाण के साथ प्रवेश करने की मनाही कर दी गई है। 

पाकिस्तानी पंजाब सूबे के जिला नरोवाल के डीएम नबील इरफ़ान ने दिसंबर 2021 में मेजर जनरल कमल अज़फ़र, महानिदेशक, फ्रंटियर वर्क्स ऑर्गनाइजेशन को लिखे एक पत्र में उंगली उठाई है कि करतारपुर गलियारे के पैसे का गलत इस्तेमाल किया गया है। इतना ही नहीं, इसके लेखेजोखे के लिए जिम्मेदार पाकिस्तान के सीएजी की कमेेटी सार्वजनिक खातों के कागज दिखाने से मना कर रही है।

 

जिला पेशावर के एक जाने-माने सिख नेता गुरपाल सिंह को गत 21 दिसंबर को पेशावर हाईकोर्ट के अतिरिक्त रजिस्ट्रार ने एक पत्र भेजकर एक अजीबोगरीब शर्त की जानकारी दी। पत्र में उनकी तरफ से कहा गया है कि सिखों की पवित्र निशानी कृपाण को 'लाइसेंसी हथियार' ठहराया गया है इसलिए इसे धारण करने वाले सिखों को इसके लिए लाइसेंस लेना होगा।

 

नबील का ये भी आरोप है कि एडीसी, नरोवाल शोएब सलीम की दी गई रिपोर्ट में गड़बड़ियां पकड़ में आई हैं। रिपोर्ट में है कि करीब 165 करोड़ पाकिस्तानी रुपए की गड़बड़ी पाई गई है। अल अरबिया पोस्ट के समाचार में बताया गया है कि सीमेंट के 7 लाख कट्टों के बिल दिखाए गए हैं, लेकिन असल में सिर्फ करीब 4.29 लाख कट्टे ही काम में आए हैं। इमारतों के लिए घटिया दर्जे की ईंटें खरीदी गईं जबकि बिल अच्छी क्वालिटी की ईंटों का दिया गया था। 

और तो और, करतारपुर गलियारे का जिस ग्लोबल नोबेल कंपनी को ज्यादातर काम दिया गया था, जिसके मालिक हैं ब्रिगेडियर (सेनि) यूसुफ मिर्जा, उस कंपनी को ये काम मिलने से सिर्फ तीन दिन पहले ही बनाया गया था। 

इसके अलावा सिखों की भावनाओं को आहत करते हुए गत 21 दिसंबर को पंजाब सूबे की सरकार ने गुलाब देवी अस्पताल के सामने बने 'गुलाब देवी अंडरपास' का नाम बदल दिया। अब इसे 'अब्दुल सत्तार ईधी अंडरपास' नाम दिया गया है। उल्लेखनीय है कि गुलाब देवी लाला लाजपत राय की माता जी का नाम था। वही लाला लाजपत राय जिन्होंने 1927 में अपनी माता जी की स्मृति में यह टीबी अस्पताल बनाने तथा इसके संचालन के लिए एक ट्रस्ट बनाया था। 

जिला पेशावर के एक जाने-माने सिख नेता गुरपाल सिंह को गत 21 दिसंबर को पेशावर हाईकोर्ट के अतिरिक्त रजिस्ट्रार ने एक पत्र भेजकर एक अजीबोगरीब शर्त की जानकारी दी। पत्र में उनकी तरफ से कहा गया है कि सिखों की पवित्र निशानी कृपाण को 'लाइसेंसी हथियार' ठहराया गया है इसलिए इसे धारण करने वाले सिखों को इसके लिए लाइसेंस लेना होगा।

Comments

Also read:‘आजादी के बाद शासकों ने बड़ी भूलें की हैं’- जगद्गुुरु शंकराचार्य स्वामी जयेन्द्र सरस्व ..

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

Also read:‘‘भेद-रहित समाज का निर्माण होने वाला है’’- मोहनराव भागवत ..

सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने वाला प्रमुख पत्र
भारत में जनतंत्र

दिग्गज विचारकों का मंच बना पाञ्चजन्य

देश के दिग्गज विचारकों ने अपनी बातें जनता तक पहुंचाने के लिए पाञ्चजन्य को एक विश्वसनीय माध्यम माना। पाञ्चजन्य ने लोकतंत्र के पहरुए के रूप में भारतीय परंपरानुरूप सदैव हर विचार का सम्मान किया। यह पाञ्चजन्य के लेखकों की सूची में विभिन्न दिग्गज समाजवादी, कांग्रेसी, सर्वोदयी और वामपंथी विचारकों के शामिल होने से स्पष्ट होता है जयप्रकाश नारायण का जो पहला आलेख पाञ्चजन्य अपने जन्म से ही लोकतंत्र समर्थक रहा है। इसीलिए पत्रिका के नियंताओं ने हमेशा इसे लोकतंत्र के मंच के रूप में प्रस्तुत क ...

दिग्गज विचारकों का मंच बना पाञ्चजन्य