पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

यूएन ने भारत को दी चेतावनी, ओमिक्रॉन बरपा सकता है कहर

Webdesk

WebdeskJan 14, 2022, 04:02 PM IST

यूएन ने भारत को दी चेतावनी, ओमिक्रॉन बरपा सकता है कहर
महाराष्ट्र में तेजी से बढ़ रहे हैं नए मामले (फाइल चित्र)

गत वर्ष अप्रैल-जून माह में कोरोना महामारी से 2,40,000 लोगों की मृत्यु हुई थी। इस संकट से आर्थिक स्थिति पर भी गंभीर असर पड़ा था 


कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट के बढ़ते प्रकोप के बीच संयुक्त राष्ट्रसंघ ने भारत के संदर्भ में एक चेतावनी दी है। यूएन ने चिंताजनक बात कही है कि भारत एक बार फिर वैसे ही खतरे की स्थितियों का सामना कर सकता है जैसी पिछले साल दूसरी लहर में देखने में आई थीं। 

संयुक्त राष्ट्र ने एक रिपोर्ट के जरिए यह चेतावनी जारी की है। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत में गत वर्ष अप्रैल-जून माह में कोरोना महामारी से 2,40,000 लोगों की मृत्यु हुई थी। इस संकट से आर्थिक स्थिति पर भी गंभीर असर पड़ा था। चिंता की बात है कि भारत में फिर से ठीक उसी तरह की स्थितियों बन रही हैं। ऐसे हालात में किसी भ्रम में रहना ठीक नहीं होगा।  

 

अमेरिका में ओमिक्रॉन संक्रमण डरावने आयाम ले रहा है। स्थिति यह है कि वहां अनेक प्रांतों में चिकित्सा का तंत्र हिल गया है। कई प्रांतों में तो सरकार ने सेना के एक हजार सैनिक मदद के लिए तैनात किए गए हैं। खबरों के अनुसार, 13 जनवरी को बीते 24 घंटों के अंदर अमेरिका के अस्पतालों में 1,42,388 मरीज दाखिल किए गए। 

 

यूएन की 'वैश्विक आर्थिक स्थितियां तथा संभावनाएं'(डब्ल्यूईएसपी) रिपोर्ट में लिखा है कि कोरोना के बहुत ज्यादा संक्रामक ओमिक्रॉन वेरिएंट की वजह से संक्रमण की एक नई लहर देखने में आ रही है। इसलिए यह महामारी फिर से अर्थ ​क्षेत्र तथा लोगों पर गंभीर असर डाल सकती है। 

संयुक्त राष्ट्र में आर्थिक और सामाजिक मामलों की अवर महासचिव लियू झेनमिन के अनुसार, दुनिया के सहयोग के बिना कोरोना का मुकाबला करना संभव नहीं है। वैक्सीन के सभी तक पहुंचने तक यह महामारी दुनियाभर की अर्थव्यवस्था की स्थिति के बेहतर होने को लेकर एक बड़े खतरे की तरह कायम रहेगी। भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़े बताते हैं कि देश में अब तक 154.6 करोड़ से अधिक लोगों को कोरोना की वैक्सीन लगाई जा चुकी है। 

इधर संयुक्त राष्ट्र की यह रिपोर्ट सामने आई है उधर अमेरिका में ओमिक्रॉन संक्रमण डरावने आयाम ले रहा है। स्थिति यह है कि वहां अनेक प्रांतों में चिकित्सा का तंत्र हिल गया है। कई प्रांतों में तो सरकार ने सेना के एक हजार सैनिक मदद के लिए तैनात किए गए हैं। खबरों के अनुसार, 13 जनवरी को बीते 24 घंटों के अंदर अमेरिका के अस्पतालों में 1,42,388 मरीज दाखिल किए गए। जिन प्रांतों में स्वास्थ्यकर्मियों की सहायता के लिए सैनिक तैनात किए गए हैं, उनमें प्रमुख हैं मिशिगन, न्यू जर्सी, न्यू यार्क, न्यू मेक्सिको, रॉड आइलैंड तथा ओहायो।
 

Comments
user profile image
Jaipat Jangu
on Jan 15 2022 18:32:26

अफगानिस्तान पर इसी यूएन का गला सूख गया था।☺☺

Also read:श्रीलंका में खाने की कमी से भुखमरी की शिकार हो रही जनता, बच्चे उपवास को मजबूर ..

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

मा. कृष्णगोपाल जी का उद्बोधन

Also read:चीन ईरान में बनाने जा रहा है कारोबार का बड़ा केन्द्र, 25 साल का हुआ करार ..

ब्रिटेन में मोदी के समर्थन में उतरा सिख समुदाय, खालिस्तानी तत्वों को लगाई फटकार
चीन में मिला ओमिक्रॉन, ड्रैगन ने लगाया अमेरिका-कनाडा पर उसके यहां वायरस फैलाने का आरोप

अबुधाबी हवाईअड्डे पर हूती विद्रोहियों का ड्रोन से हमला, सऊदी गठबंधन ने किया जवाबी हवाई हमला

विस्फोट ​ने आसपास तक के इलाकों को दहला दिया और नजदीक मौजूद तेल के टैंकरों में आग धधक उठी। इस हमले की जिम्मेदारी यमन के उन हूती विद्रोहियों ने ली जिन्हें ईरान का कथित समर्थन प्राप्त है संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में अबुधाबी हवाई अड्डे पर 17 जनवरी को एक जबरदस्त विस्फोट ​ने आसपास तक के इलाकों को दहला दिया और नजदीक मौजूद तेल के टैंकरों में आग धधक उठी। इस हमले की जिम्मेदारी यमन के उन हूती विद्रोहियों ने ली जिन्हें ईरान का कथित समर्थन प्राप्त है। इस घटना में दो भारतीय और एक पाकिस्ताी नागरिकों की म ...

अबुधाबी हवाईअड्डे पर हूती विद्रोहियों का ड्रोन से हमला, सऊदी गठबंधन ने किया जवाबी हवाई हमला